दलाई लामा ने माना हो सकते हैं आख़िरी गुरु

  • 17 दिसंबर 2014
दलाई लामा हो सकतो हैं आख़िरी गुरु इमेज कॉपीरइट AFP

तिब्बत के निर्वासित आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा ने स्वीकार किया कि हो सकता है ये उपाधि पाने वाले वो आख़िरी व्यक्ति हों.

79 साल के दलाई लामा ने बीबीसी से कहा कि सदियों पुरानी परंपरा को 'लोकप्रिय दलाई लामा के समय में' समाप्त कर देना बेहतर होगा.

बीबीसी के न्यूज़नाइट कार्यक्रम में एक विस्तृत साक्षात्कार में दलाई लामा ने कहा कि उनके बाद कोई और दलाई लामा की उपाधि संभालेगा या नहीं ये इस पर निर्भर करेगा कि उनकी मृत्यु के समय कैसी परिस्थितियां रहती हैं और तिब्बत के लोगों पर भी.

हालांकि चीन अक्सर कहता रहा है कि वो अगले दलाई लामा को चुनेगा.

इस बयान को दलाई लामा की उन कोशिशों का हिस्सा माना जा रहा है जिसके तहत ये सुनिश्चित किया जाए कि तिब्बती समुदाय का एक चुना हुआ नेता हो जो चीन के प्रभाव से बाहर हो.

नोबेल का शांति पुरस्कार पाने वाले दलाई लामा को चीन 'विभाजन करने वाली' हस्ती मानता रहा है, लेकिन अब दलाई लामा चीन के साथ बीच का रास्ता अपनाने की बात करते हैं. इसके तहत वो तिब्बत के लिए आज़ादी नहीं बल्कि स्वायत्तता की मांग कर रहे हैं.

दलाई लामा 1959 में उस समय भाग कर भारत आ गए थे जब तिब्बत में विद्रोह की कोशिश को चीन ने दबा दिया था.

नैतिक ज़िम्मेदारी

इमेज कॉपीरइट AFP

दलाई लामा के अनुसार ब्रिटेन ने हांगकांग में चल रहे लोकतंत्र समर्थक विरोध पर चीन के प्रति वित्तीय कारणों की वजह से नरम रवैया अपनाया है.

उन्होंने ये भी कहा कि चीन में लोकतंत्र का समर्थन करने के लिए वैश्विक स्तर पर कोशिशें की जानी चाहिए.

दलाई लामा का कहना था,''चीन वैश्विक अर्थव्यवस्था की मुख्यधारा में शामिल होना चाहता है. उनका स्वागत किया जाना चाहिए, लेकिन दुनिया के सभी आज़ाद देशों की ये नैतिक ज़िम्मेदारी है कि वो चीन को लोकतंत्र की मुख्यधारा में शामिल करें, ये चीन के हित में होगा.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार