कुर्दों ने आईएस चरमपंथियों को खदेड़ा

इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तरी इराक़ में मौजूद कुर्द सैनिकों ने दावा किया है कि उन्होंने चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ अब तक की सबसे बड़ी सैन्य सफलता हासिल की है.

उनके अनुसार उन्होंने माउंट सिंजर को आईएस के क़ब्ज़े से छुड़ा लिया है जहां अगस्त के महीने से यज़ीदी और दूसरे समुदाय के हज़ारों लोग फंसे हुए थे.

इराक और सीरिया के कुछ हिस्सों पर पिछले कुछ महीनों से आईएस का क़ब्ज़ा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

कुर्दिस्तान क्षेत्रीय सुरक्षा परिषद के प्रमुख मसरूर बरज़ानी ने कहा कि इस हमले की शुरूआत बुधवार सुबह हुई थी. उनके अनुसार अमरीका और मित्र देशों ने भारी हवाई हमले करके उनकी मदद की और लगभग आठ हज़ार पेशमर्ग लड़ाकों ने ज़मीन पर दो तरफ़ा हमले किए.

असर

मसरूर बरज़ानी ने इस अभियान के बारे में और जानकारी देते हुए कहा, ''हमने कल जिस अभियान की शुरूआत की थी आज उसे पूरा कर लिया. कुर्दी राष्ट्रपति मसूद बरज़ानी के नेतृत्व में इस हमले को अंजाम दिया गया था. कुर्दिस्तान के एक बड़े हिस्से को हमने आज़ाद करा लिया है. ये एक बहुत बड़ा ऑपरेशन और शुक्र है कि ये सफलतापूर्वक समाप्त हो गया.''

इमेज कॉपीरइट na

अमरीका ने भी कुर्द सैनिकों की इस कामयाबी की पुष्टि की है.

आईएस के ख़िलाफ़ लड़ रहे अंतरराष्ट्रीय सैन्य गठबंधन के कमांडर लेफ़्टिनेंट जनरल जेम्स टेरी ने वाशिंगटन में एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि हवाई हमले का आईएस पर महत्वपूर्ण असर हो रहा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

जनरल टेरी का कहना था, ''सिंजर और जुमार पर 53 हवाई हमले किए गए जिसके नतीजे में इराक़ी सेना ने लगभग 100 वर्ग किलोमीटर इलाक़े को आईएस से छुड़ा लिया है. इस तरह के संयुक्त ऑपरेशन का आईएस की क्षमताओं पर बहुत असर हो रहा है. हमलोग हर संभव मौक़े पर आईएस के ख़िलाफ़ हमले करते रहेंगे.''

हालांकि कुर्द सैनिकों ने कहा कि उनकी अपील के बावजूद इराक़ सरकार ने इस हमले के लिए कुर्द सेना की कोई मदद नहीं की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार