ट्यूनीशियाः राष्ट्रपति ने नहीं मानी हार

  • 22 दिसंबर 2014
मोंसेफ़ मारज़ुकी इमेज कॉपीरइट AP

ट्यूनीशिया के कार्यवाहक राष्ट्रपति मोंसेफ़ मारज़ुकी ने एक्ज़िट पोल के आधार पर हार मानने से इनकार कर दिया है.

सर्वेक्षणों में उनके प्रतिद्वंद्वी बेजी सईद एसेब्सी को आगे बताया जा रहा है और खुद एसेब्सी भी जीत का दावा कर रहे हैं.

लेकिन मारज़ुकी ने कहा कि उनके प्रतिद्वंद्वी का जीत की घोषणा 'अलोकतांत्रिक' है.

88 वर्षीय एसेब्सी अपने समर्थकों के साथ जश्न मना रहे हैं और ट्यूनीशिया वासियों से 'मिलकर काम करने' को कह रहे हैं और स्थायित्व लाने वायदा कर रहे हैं.

आधिकारिक परिणाम सोमवार देर रात तक आ सकते हैं.

'इंतज़ार करें'

इमेज कॉपीरइट AP

एक एक्ज़िट पोल में एसेब्सी को 55.5% मत मिलते दिखाए गए हैं जबकि अन्य सर्वेक्षणों के परिणाम भी कमोबेश ऐसे ही हैं.

इस पर 67 वर्षीय मारज़ुकी ने अपने समर्थकों से कहा, "जीत का ऐलान अलोकतांत्रिक है. अगर हम एक ऐसा देश बनना चाहते हैं जहां क़ानून की इज़्ज़त की जाती है तो हमें इंतज़ार करना चाहिए."

उन्होंने कहा, "मैं आपसे कहना चाहता हूं कि हम सभी विजयी हुए हैं. ट्यूनीशिया जीता है और आप जीते हैं. आपकी जीत ट्यूनीशिया की जीत है, लोकतंत्र की और मानवाधिकार की."

मारज़ुकी 2011 से ही अंतरिम राष्ट्रपति के रूप में काम कर रहे हैं. वे रूढ़िवादी हैं और अपेक्षाकृत गरीब समझे जाने वाले दक्षिण ट्यूनीशिया में ख़ासे लोकप्रिय हैं.

2011 में ज़ीन अल आबेदीन बेन अली को अरब क्रांति के बाद राष्ट्रपति पद छोड़ना पड़ा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार