'तालिबान के ठिकानों को बनाया जाएगा निशाना'

अफ़गानिस्तान, पाकिस्तान, सेना इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान और अफ़गानिस्तान के सेना प्रमुखों में सीमा के दोनों तरफ तालिबान के ठिकानों को निशाना बनाने पर सहमति बन गई है.

दोनों देशों की सेनाएँ, सैन्य अभियानों के लिए आपस में सहयोग करेंगी.

इससे पहले दोनों देश एक दूसरे पर सीमा पार से चरमपंथियों के हमलों का आरोप लगाते रहे हैं.

स्कूल पर हमला

पाकिस्तान के पेशावर में एक स्कूल पर तालिबान के हमले के एक हफ्ते बाद ये फैसला लिया गया है. स्कूल पर हमले में 140 लोग मारे गए थे जिनमें ज्यादातर स्कूली बच्चे थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अफ़गानिस्तान के सेना प्रमुख जनरल शेर मोहम्मद करीमी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष जनरल राहील शरीफ ने इस्लामाबाद में मुलाक़ात की.

दोनों जनरल इस बात पर सहमत हैं कि सेना के अधिकारी तुरंत मिल कर सीमा पर तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान के ख़िलाफ कार्रवाई पर चर्चा करेंगे.

इमेज कॉपीरइट AP

जनरलों की इस मुलाक़ात में अमरीकी सैन्य कमांडर जॉन कैम्पबेल भी शामिल थे.

जॉन कैम्पबेल अफ़गानिस्तान में नाटो की गठबंधन सेना के प्रमुख हैं. कैम्पबेल ने इस फैसले का स्वागत किया है.

इस बीच काबुल में अधिकारियों का कहना है कि सरहदी प्रांत कुनार में चल रही अफ़गान सेना की कार्रवाई में 250 से ज्यादा चरमपंथी मारे गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार