2014 में अंतरिक्ष: 10 ख़ास बातें

अंतरिक्ष अभियान इमेज कॉपीरइट NASA

हमारे ग्रह से बाहर अंतरिक्ष में इंसान ने पिछले 12 महीनों में काफ़ी काम किया. कुछ क़दम ऐतिहासिक रहे, तो कहीं इंसानी इरादों को झटका भी लगा. एक नज़र.

अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के अंतरिक्ष यात्री डॉन पेटिट ने अंतरिक्ष में बड़ी संख्या में तस्वीरें खींची. उन्होंने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र से इन तस्वीरों को खींचा. जिस वक़्त ये तस्वीरें ली गई तब अंतरिक्ष केंद्र धरती से लगभग 240 मील ऊपर था.

1) धूमकेतु की सवारी

इमेज कॉपीरइट NASA

यूरोप के वैज्ञानिकों ने इतिहास में पहली बार एक धूमकेतु पर अंतरिक्ष यान उतारने में कामयाबी हासिल की. बड़े कुत्ते के आकार का यह रोबोट यान फ़िलाई धरती से करीब 50 करोड़ किलोमीटर दूर धूमकेतु की सतह पर उतरा.

2) नासा की वापसी

इमेज कॉपीरइट US NAVY

नासा ने अपने नए ओरियोन अंतरिक्ष यान का सफल प्रक्षेपण किया. नासा को उम्मीद है कि इस सफलता के बाद उसके अंतरिक्ष यात्री एक दिन मंगल ग्रह पर पहुंचने में कामयाब रहेंगे.

3) किराये पर यान

इमेज कॉपीरइट AP

नासा ने स्पेसएक्स के फ़ाल्कन 9 रॉकेट और ड्रेगन अंतरिक्ष यान को किराए पर लिया. नासा ने यह फैसला कॉमर्शियल क्रू प्रोग्राम के तहत अपने अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र पर भेजने के लिए किया है.

4) अंतरिक्ष में चहलक़दमी

इमेज कॉपीरइट REUTERS

अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के यात्री रीड वाइजमैन और अलेक्जेंडर गर्स्ट बिजली उपकरणों में आई खराबी दूर करने के लिए अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र से बाहर निकले.

5) उड़ते ही धमाका

इमेज कॉपीरइट AP

2014 में अंतरिक्ष से जुड़ी कुछ बुरी ख़बरें भी आई. ऑर्बिटन साइंसेज़ का मानवरहित रॉकेट एंटारेस वर्जीनिया में उड़ने के कुछ ही देर बाद ज़ोरदार धमाके के साथ नष्ट हो गया.

6) परीक्षण के दौरान हादसा

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

गैलेक्टिक स्पेसक्राफ़्ट-टू परीक्षण के दौरान कैलिफ़ोर्निया के मोहावी रेगिस्तान में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. इस दुर्घटना में एक पायलट की मौत हो गई थी, जबकि एक अन्य घायल हो गया था.

7) अंतरिक्ष में सेल्फ़ी

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

अमरीकी अंतरिक्ष यात्री रिक मास्ट्रेचियो ने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र के बाहर मरम्मत अभियान के दौरान सेल्फ़ी ली.

8) भारतीय मंगल अभियान

सितंबर में भारत का मंगलयान 300 दिन और 67 करोड़ किलोमीटर की यात्रा कर मंगल पर पहुंच गया. इसके साथ ही भारत मंगल पर अंतरिक्ष यान भेजने वाला चौथा देश बन गया. भारत पहली कोशिश में ही यह सफलता पाने वाला पहला देश है.

9) नए ग्रह की राह

इमेज कॉपीरइट REUTERS

नासा के मंगल ग्रह परे भेजे रोबोट क्यूरियोसिटी रोवर ने नया इतिहास रचा. रोवर मंगल की सतह से सिर्फ़ 25 फ़ुट ऊपर टिका.

10)पृथ्वी पर नज़र

इमेज कॉपीरइट REUTERS

जापान की अंतरिक्ष एजेंसी ने पृथ्वी पर नज़र रखने के लिए चंद्रमा पर अपना प्रोब भेजा. जापान ने अमरीका के अपोलो अभियान के बाद इसे सबसे बड़ा अभियान बताया है.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी फ़्यूचर पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार