पुतिन की नाक में दम करने वाला 'ब्लॉगर'

  • 1 जनवरी 2015
रूस में भ्रष्टाचार विरोधी अभियान के नेता अलेक्सी नवालिन इमेज कॉपीरइट AP

रूस में भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ अभियान चलाने वाले 38 साल के अलेक्से नवाल्नी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के विरोध का चिर-परिचित चेहरा बन चुके हैं.

कथित गबन के आरोप में सजा काट चुके अलेक्से को मास्को की एक अदालत ने धोखाधड़ी के कथित मामले में विलंबित सजा दी है यानी फिलहाल वो जेल नहीं जाएंगे.

'प्रिंस चार्ल्स ने हिटलर से की पुतिन की तुलना'

नवाल्नी का आरोप रहा है कि उनके खिलाफ की गई सभी कानूनी कार्रवाइयाँ राजनीति से प्रेरित है.

चोरी और जालसाजी

इमेज कॉपीरइट n

राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन की पार्टी यूनाइटेड रशिया को 'चोरों और जालसाजों' की पार्टी बताने वाले अलेक्से नवालिन 2011 के संसदीय चुनाव और फिर 2012 के राष्ट्रपति चुनाव के दौरान विरोध प्रदर्शनों के अघोषित नेता बन गए.

जुलाई 2013 में जब गबन के आरोप में उन्हें जेल हुई तो पांच साल की कैद को राजनीतिक रूप से प्रेरित बताया गया.

मास्को के मेयर चुनाव में प्रचार के लिए उन्हें कैद से बाहर आने की इजाज़त मिली.

कई पुतिन विरोधी प्रदर्शनकारी हिरासत में

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस चुनाव में वे पुतिन समर्थित सरगई सोबियानिन के मुकाबले 27 फीसदी वोट लेकर दूसरे नंबर पर रहे.

सरकारी टीवी तक कोई पहुँच न होने बावजूद केवल इंटरनेट और आम लोगों के बीच होने वाली चर्चाओं के जरिए हासिल की गई इस सफलता को अनोखा माना गया.

महीनों नजरबंद होने के बावजूद अलेक्से अपने ब्लॉग और सोशल मीडिया के जरिए रूस की नीतियों के विरोध में बोलते रहे.

फ़्लैट से चल रहा है क्रेमलिन विरोधी चैनल

'काला धन'

इमेज कॉपीरइट AFP

अलेक्से के रूस की राजनीति में एक मजबूत शख्स के रूप में उभरने की शुरुआत साल 2008 में हुई.

उन्होंने 2008 में सरकार के नियंत्रण वाले कुछ बड़े संस्थानों के कथित भ्रष्टाचार और अपराध के बारे में ब्लॉग पर लिखना शुरू किया.

सीआईए का प्रोजेक्ट है इंटरनेट: पुतिन

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption विधि स्नातक अलेक्से नवाल्नी का जन्म 1976 में मॉस्को इलाक़े में हुआ था.

अलेक्से के भ्रष्टाचार विरोधी अभियान ने उन्हें कार्पोरेट जगत से सीधा सत्तारूढ़ पार्टी के सामने ला खड़ा किया.

साल 2011 के संसदीय चुनाव से पहले उन्होंने अपना ब्लॉग पाठकों से गुजारिश की थी कि वे यूनाइटेड रशिया जो 'चोरों और धोखेबाजों की पार्टी' है, को वोट न दें.

यूनाइटेड रशिया चुनाव तो जीत गई मगर इस पर कई अनियमितताओं के आरोप लगे. इसके खिलाफ अलेक्से की अगुआई में हजारों की तादाद में लोगों ने प्रदर्शन किए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार