वोद्का की कीमतों ने छुड़ाए पुतिन के पसीने

वोद्का इमेज कॉपीरइट Getty

रूस की ख़स्ताहाल अर्थव्यवस्था और तेजी से लुढ़कते रूबल का दबाव इतना अधिक हो गया है कि इसे कैसे संभाला जाय राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन भी नहीं समझ पा रहे हैं.

वोद्का की क़ीमतों में तेज़ी से बढ़ोत्तरी पर काबू पाने के लिए पुतिन को हस्तक्षेप करना पड़ा.

पुतिन वोद्का के बढ़ते दामों को नियंत्रित करने के लिए सरकार को उपाय करने का आदेश दिया है.

उन्होंने कहा है कि ऊंची क़ीमतों से अवैध और असुरक्षित शराब की ख़पत बढ़ा दी है.

तेल की गिरती क़ीमतों और पश्चिमी देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों की वजह से हाल ही में रूस की मुद्रा रूबल के दाम तेज़ी से गिरे हैं.

तीस प्रतिशत बढ़े दाम

इमेज कॉपीरइट AP

देश के पूर्व वित्तमंत्री ने चेताया है कि अगले साल तक रूस मंदी का शिकार हो जाएगा.

पुतिन ने संबंधित एजेंसियों को दामों पर नियंत्रण करने के लिए निर्देश दिया है और साथ ही कहा है कि अवैध शराब की तस्करी के ख़िलाफ़ सरकार को सख़्ती से निपटना चाहिए.

समाचार एजेंसी रायटर्स के मुताबिक पिछले साल किए गए एक अध्ययन में एक अग्रणी विश्वविद्यालय ने कहा था कि अपने पचासवें दशक के मध्य तक जाते जाते 25 प्रतिशत रूसी मौत का शिकार हो जाते हैं.

कम उम्र में हुई इन मौतों के कारणों में शराब भी एक कारण था.

रायटर्स के अनुसार, पिछले साल के मुकाबले आधा लीटर वोद्का का सरकार नियंत्रित मूल्य 30 प्रतिशत बढ़कर 220 रूबल (क़रीब 260 रुपये) हो गया है.

महंगाई केवल वोद्का क़ीमतों में ही नहीं आई है. इस समय रूस में वार्षिक मुद्रा स्फीति 9.4 प्रतिशत पर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार