फ्रांस: पेरिस हमलावरों की तलाश तेज़, हाई अलर्ट

  • 7 जनवरी 2015
इमेज कॉपीरइट BBC World Service

कम से कम दो बंदूक़धारियों ने एक फ़्रांसीसी व्यंग्य पत्रिका 'शरली एब्डो' के पेरिस कार्यालय पर हमला कर 12 लोगों को मार डाला है.

इस घटना में सात लोग घायल भी हुए हैं.

मारे गए लोगों में दस पत्रकार और दो पुलिसकर्मी शामिल हैं.

पुलिस के मुताबिक़ हमलावर भागते वक़्त ''अल्लाहो-अकबर'' और ''हमने पैग़ंबर का बदला ले लिया है'' चिल्ला रहे थे.

शरली एब्डो पत्रिका: भड़काऊ कार्टून, उत्तेजक शीर्षक

इमेज कॉपीरइट AFP

हमलावर काले रंग की एक कार से भागे. बताया जा रहा है कि यह कार मिल गई है.

हाई अलर्ट

अधिकारियों का कहना है कि वो अभी भी हमले के लिए ज़िम्मेदार लोगों की तलाश कर रहे हैं.

फ्रांस में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है.

पुलिस व्यापक स्तर पर हमलावरों की तलाश कर रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption (हमले में मारे गए कॉर्टूनिस्ट-क्लॉकवाइज़) ज्यां काबू, वॉल्सिंगी पोसिंग, शर्ब, टिग्नू

घटनास्थल पर मौजूद फ्रांस के राष्ट्रपति ओलांद ने इसे एक “आंतकी हमला” बताया जिसकी “निर्दयता की कोई इंतहा नहीं है.”

उन्होंने कहा कि “पिछले हफ़्तों में कई आतंकी हमलों को नाकाम किया गया है.”

उनका कहना था कि चरमपंथियों ने कायराना ढंग से उन पत्रकारों की हत्या की, जिनके अधिकार और आज़ादी फ्रांसीसी गणराज्य ने सुनिश्चित किए थे.

प्रत्यक्षदर्शियों ने ऑफ़िस पर लगातार गोलियां चलाए जाने की बात कही और बताया कि हमलावरों ने कलाश्निकोव असॉल्ट राइफ़लों से हमला किया.

विवादित कार्टून

यह व्यंग्य पत्रिका समाचार और करंट अफ़ेयर्स को पेश करने को लेकर पहले से विवादों में रही है.

पत्रिका का ताज़ा ट्वीट चरमपंथी समूह इस्लामिक स्टेट के मुखिया अबू बक़र अल-बग़दादी पर एक कार्टून था.

इमेज कॉपीरइट AFP

एक प्रत्यक्षदर्शी बेनॉयट ब्रिंजर ने फ्रांस के टीवी चैनल इटेले को बताया, "दो काले नक़ाबपोश लोग कलाश्निकोव राइफ़लों के साथ इमारत में घुसे. कुछ मिनटों के बाद हमने गोलियों की आवाज़ सुनी."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बाद में इन लोगों को इमारत से भागते हुए देखा गया.

फ्रांस के पुलिस अधिकारी ने एक टीवी चैनल बीएफ़एमटीवी को बताया, "यह एक नरसंहार है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए