तालिबान को सरकार में आने का आमंत्रण!

अफगानिस्तान राष्ट्रपति इमेज कॉपीरइट AFP

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ ग़नी ने चरमपंथी संगठन तालिबान को सरकार में शामिल होने का आमंत्रण दिया है.

तालिबान को सरकार के भीतर जिन तीन पदों की पेशकश की गई है उनमें से दो ग्रामीण मामले और अफ़ग़ानिस्तान सीमा पर सीमा शुल्क जमा करने से जुड़े हैं.

तालिबान के नज़दीकी सूत्रों का कहना है कि उसने अफ़ग़ानिस्तान सरकार की इस पेशकश को ठुकरा दिया गया है.

सूत्रों का कहना है कि तालिबान ने उस सुरक्षा समझौते का कारण सरकार की पेशकश ठुकरा दी है जिसके कारण अफ़ग़ानिस्तान में अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा बल अब तक मौजूद हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption तालिबान ने सरकार में शामिल होने की पेशकश ठुकरा दी है.

सत्ता में आने के तीन महीने बीत जाने के बावजूद अशरफ ग़नी अपने सरकार के गठन को अंतिम रुप नहीं दे सके हैं.

तालिबान के ख़िलाफ़ संघर्ष में शामिल सक्रिय अमरीकी सैनिक पिछले महीने स्वदेश लौट गए, लेकिन अफ़ग़ान सेना के प्रशिक्षण और सहयोग के लिए अब भी लगभग 13,000 अमरीकी सैनिक अफ़ग़ानिस्तान में बने हुए हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार