कौन थी अमरीका की ड्रीम गर्ल?

  • 12 जनवरी 2015
इवलीन नेसबिट इमेज कॉपीरइट WIKIPEDIA

अमरीका की इवलीन नेसबिट ने 100 साल से भी अधिक समय पहले एक मॉडल के रूप में काफ़ी नाम कमाया. लेकिन उनकी शख़्सियत बस मॉडल तक ही सीमित नहीं थी, वो सांस्कृतिक जीवन में क्रांतिकारी बदलाव का माध्यम भी बनीं.

तो वो कौन सी चीज़ है जो मॉडल को सुपरमॉडल बनाती है. निसंदेह, उसका अलौकिक सौंदर्य, लेकिन इसके अलावा भी बहुत कुछ- एक करिश्मा, फ़ौलादी इरादे और सेक्स अपील.

एक आम मॉडल तब सुपरमॉडल बनती है जब वो न केवल हर तरफ़ मशहूर होती है, बल्कि जब वह अपने युग का नेतृत्व भी करती है.

सुपरमॉडल

सुपरमॉडल कहने को तो एक बार में कैमरे के एक क्लिक का सामना करती है, लेकिन वह अपने समय की फ़ैशन संस्कृति के केंद्र में होती है और एक तरह से इसका प्रतिनिधित्व करती है.

इमेज कॉपीरइट WIKIPEDIA

हर दशक का अपना फ़ैशन रहा है- शरारती पहनावा, मिनी स्कर्ट, लहराती-घूमती पोशाकें.

नेसबिट का युग एक नहीं, कई मायनों में ख़ास था. 19वीं शताब्दी के आख़िरी दौर में अमरीकी अर्थव्यवस्था तेज़ी से बढ़ रही थी, लेकिन दूसरी तरफ ग़रीबी का भी आलम था. यूरोप से बड़ी संख्या में शरणार्थी अमरीका में जमा हो रहे थे.

नेसबिट ने भी अपने जीवन में भारी उतार-चढ़ाव देखे. पेन्सिलवेनिया में साधारण परिवार में पली-बढ़ी नेसबिट ने अपनी मां को तब संघर्ष करते हुए देखा जब उनके पिता परिवार पर कर्ज़ छोड़कर इस दुनिया से विदा हो गए थे.

नेसबिट को 14 साल की उम्र से ही काम करना पड़ा. वो पूरे कपड़ों में मॉडलिंग करती थी. जब वह वर्ष 1900 में न्यूयॉर्क आईं तो तेज़ी से उभर रहीं थी, लेकिन साथ ही एक नई दुनिया में भी प्रवेश कर रहीं थीं.

फ़र्श से अर्श तक

तभी जेम्स कैरोल बैकविथ की नज़र उन पर पड़ी, उन्होंने नेसबिट को कलाकारों और चित्रकारों से मिलवाया और देखते ही देखते नेसबिट न्यूयॉर्क में सबसे चहेती मॉडल बन गईं.

इमेज कॉपीरइट Other

वेनेटी फ़ेयर, हार्पर्स बाज़ार, डेलिनिएटर जैसी दिग्गज पत्र-पत्रिकाओं के कवर पेज़ और मुख्य पन्नों पर नेसबिट की तस्वीरें दिखाई देने लगीं. यही नहीं, फ़ेस क्रीम से लेकर टूथ पेस्ट तक सभी विज्ञापनों में भी वे नज़र आने लगीं.

नेसबिट के नैन-नक्श, ओजस्वी चेहरा जल्द ही सर्वव्यापी हो गया. उनकी तस्वीर पोस्टकार्ड, तंबाकू के डिब्बों, कैलेंडर्स पर छा गईं.

फ़ैशन फोटोग्राफी अभी अपना रूप ले ही रही थी, जब वह इस नए मीडियम में लाइव मॉडल के रूप में सामने आईं. जोएल फ़ेड्री के लिए जब उन्होंने फ़ोटो शूट किया तो वो लोगों की नज़रों में चढ़ गईं. अख़बार अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए उनकी तस्वीरें छापते थे और सार्वजनिक स्थानों पर वह लोगों के बीच जाना-पहचाना चेहरा बन गईं थीं.

1901 में उन्होंने बेहद कामयाब नाटक फ़्लोरोडोरा के लिए गाना गाया तो शहरों में उनका चर्चा आम हो गया. नेसबिट अमरीका की ड्रीम गर्ल बन गई और 'उनका चेहरा उनकी किस्मत'. अख़बार 'अमेरिकन ईव' ने इस समय को बीसवीं सदी का पहला मादक दशक करार दिया.

प्रशंसा के जोखिम

नेसबिट जब 'फ़्लोरोडोरा गर्ल' के नाम से प्रसिद्ध थी, तभी उनकी मुलाक़ात न्यूयॉर्क के आर्किटेक्ट और रईस स्टेनफ़ोर्ड व्हाइट से हुई. स्टेनफ़ोर्ड मेडिसन स्कवॉयर जैसी इमारतें बना रहे थे.

इमेज कॉपीरइट CORBIS

शुरू में स्टेनफ़ोर्ड, नेसबिट के चाचा-मामा की तरह नज़र आते थे, लेकिन जल्द ही वह नेसबिट के प्रेमी बन गए. वह नेसबिट और उनके परिवारवालों को महंगे उपहार देने लगे.

लेकिन यह रिश्ता लंबा नहीं चला और एक साल बाद ही ख़त्म हो गया. नेसबिट ने अरबपति हैरी के थाव के साथ शादी कर ली.

लेकिन इससे मसला और उलझ गया. शक का कीड़ा थाव को लगातार काट रहा था. ईर्ष्या की यही आग लेकर एक दिन वह मेडिसन स्कवॉयर गार्डन पहुँचे और स्टेनफ़ोर्ड की बेहद क़रीब से गोली मारकर हत्या कर दी.

रहस्यों से पर्दा उठा

जब इस हत्या का मुक़दमा चला तो कठघरे में खड़ी नेसबिट ने कई रहस्योद्घाटन किए, सिर्फ़ अपने पति थाव के बारे में नहीं, बल्कि अपने जीवन से जुड़ी कई घटनाएं भी उन्होंने उजागर कीं.

नेसबिट ने अपनी माँ पर स्टेनफ़ोर्ड के साथ जबरन ज़िस्मानी रिश्ते बनवाने का आरोप लगाया. इस मुक़दमें की चर्चा हर जगह थी, यही वजह थी अमरीका के क़ानूनी इतिहास में पहली बार किसी मुक़दमे की सुनवाई ज्यूरी ने एकांत में की.

थाव को उनके जुर्म के लिए उम्र क़ैद की सज़ा हुई. इसके बाद, नेसबिट भी तन्हा रहने लगीं. उन्होंने दो आत्मकथाएं लिखी, कुछ चित्र बनाए और कुछेक तस्वीरें भी खिंचवाईं, लेकिन ये सब उन्होंने शौक से नहीं बल्कि आजीविका के लिए किया.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी कल्चर पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार