नेपाल: सांड की लड़ाई का उत्सव

सांड की लड़ाई, नेपाल इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

हर साल नेपाल में हिमालय की तलहटी में मकर सक्रांति के दिन सांड की लड़ाई का उत्सव मनाया जाता है.

हिंदू कैलेंडर के अनुसार मकर सक्रांति को शीत ऋतु का अंत माना जाता है.

तारुका गांव में आयोजित हुए इस उत्सव को देखने बीबीसी नेपाली के संजय ढकाल पहुंचे.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

नेपाल को लंबे अर्से से पहाड़ और आध्यात्म के लिए जाना जाता है. शायद ही किसी को लगता हो कि यहां सांड की लड़ाई का आयोजन भी होता है.

लेकिन नेपाल का एक गांव ऐसा भी है जहां 19वीं सदी के आखिरी सालों से इसका आयोजन किया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

सांडों को भरपूर मात्रा में चावल, काली दाल और छोले खिलाकर इस परंपरागत लड़ाई के लिए तैयार किया जाता है.

बिष्णु श्रेष्ठ का कहना है कि वे अपने सांड (जिसका नाम 'सुपारी' है) की देखभाल वैसे ही करते हैं जैसे वे अपने माता-पिता का करते हैं.

श्रेष्ठ अपने सांड को थपथपाते हुए गर्व से कहते हैं कि वह उनको कभी निराश नहीं करता.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

जब हट्ठे-कट्ठे सांडों को खुले मैदान में लाया जाता है और खुला छोड़ दिया जाता है तो वे तुरंत एक-दूसरे पर टूट पड़ते हैं.

लड़ाई के दौरान दो सांडों के सींग एक-दूसरे से फंस जाते हैं. और यह तब ख़त्म होता है जब दोनों में से एक सांड थक जाता है और लड़ाई का मैदान छोड़कर भाग जाता है.

जानवरों के अधिकार के लिए काम करने वाले कुछ कार्यकर्ताओं ने चिंता जताई है कि इस तरह की प्रतिस्पर्धा जानवरों पर होने वाली क्रूरता को बढ़ा सकते हैं, लेकिन आयोजक इससे इनकार करते हैं.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

तारुका ऊंचाई पर स्थित नेपाल का एक ठेठ पहाड़ी गांव है. गांववाले लड़ने वाले सांडों को नहीं पालते हैं. वे लड़ाई में खेती में काम आने वाले बैल का इस्तेमाल करते हैं.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

सांड की लड़ाई देखने दूर-दूर से लोग आते हैं. यह इधर के कुछ सालों में यह बहुत लोकप्रिय हो गया है.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

दर्शकों को सिर्फ रस्सी के घेरे के सहारे लड़ाई के मैदान से दूर रखा जाता है. अगर सांड उनकी ओर दौड़े तो उनके पास दौड़ कर जान बचाने के अलावा कोई चारा नहीं है.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

आयोजन के दौरान लोग इस उत्सव जैसे माहौल का आनंद परंपरागत वाद्य यंत्र बजाकर लेते हैं.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

लोग इस सांस्कृतिक और धार्मिक आयोजन स्थल तक पैदल तीखी चढ़ाई को पार कर आते हैं.

इमेज कॉपीरइट SANJAYA DHAKAL

गांववाले इस अवसर का इस्तेमाल रास्ते के किनारे सब्जी और फल की दुकान लगाकर पैसा कमाने में करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार