1% के पास 99% से ज़्यादा की संपत्ति

  • 19 जनवरी 2015
richest_own_more_world_oxfam इमेज कॉपीरइट AFP

एक शोध में सामने आया है कि 2016 में सबसे अमीर एक फ़ीसदी लोगों के पास दुनिया के बाकी बचे लोगों की सम्पत्ति से अधिक होगी.

ग़ैर सरकारी संस्था ऑक्सफ़ैम के एक शोध के मुताबिक़, अगर अर्थव्यवस्था वर्तमान विकास दर से आगे बढ़ती रही तो 2016 में सबसे धनी एक प्रतिशत लोगों की सम्पत्ति में 50 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हो जाएगी.

ऑक्सफ़ैम के मुताबिक जहां 2009 में इन लोगों की सम्पत्ति में 44 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हुई, वहीं 2014 में 48 फ़ीसदी की वृद्धि देखी गई.

ऑक्सफ़ैम ने चेताया कि 'असमानता का यह विस्फोट' वैश्विक ग़रीबी के खिलाफ लड़ाई को पीछे धकेल रहा है.

अमीर होते और अमीर

इमेज कॉपीरइट Getty

सोमवार को दावोस में होने वाले वार्षिक विश्व आर्थिक फोरम से पहले ऑक्सफ़ैम इंटरनेशनल की कार्यकारी निदेशक विनी ब्यानयीमा ने कहा, "वैश्विक असमानता के पैमाने काफ़ी चौंका देने वाले हैं. इनमें सबसे अमीर और बाकी लोगों के बीच का अंतर बहुत तेजी से बढ़ रहा है.

ऑक्सफ़ैम ने कहा है कि दुनिया की कुल सम्पत्ति के 52 प्रतिशत हिस्से के 46 प्रतिशत पर दुनिया की आबादी के सबसे धनी पांच लोगों का मालिकाना है.

जबकि शेष आबादी के हिस्से वैश्विक सम्पत्ति की 5.5 प्रतिशत आती है. वर्ष 2014 में प्रति व्यक्ति के हिस्से औसतन 3,544 डॉलर (क़रीब सवा दो लाख रुपए) सम्पत्ति आती है.

बढ़ती खाई

इमेज कॉपीरइट Niraj Sinha

जबकि एक प्रतिशत की आबादी में प्रति व्यक्ति के हिस्से औसतन 27 लाख डॉलर (16.65 करोड़ रुपए) की सम्पत्ति है.

ब्यानयीमा कहती हैं कि क्या लोग ऐसी दुनिया में रहना चाहेंगे जहां सिर्फ एक फ़ीसदी लोग विश्व के बाकी बचे लोगों से अधिक सम्पत्ति के मालिक हों.

इससे पहले पिछले अक्तूबर में बैंकिंग कंपनी क्रेडिट स्विस ने भी एक रिपोर्ट में कहा था कि सिर्फ़ एक फ़ीसदी लोगों के पास विश्व की कुल आबादी की आधी सम्पत्ति है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार