फ़्रांस: बहादुर लसां बथिली को नागरिकता

लसां बथिली को सम्मानित करते फ्रांस के गृह मंत्री और प्रधानमंत्री इमेज कॉपीरइट AFP

पेरिस में हुए हमले में कुछ लोगों की जान बचाने वाले माली मूल के 24 वर्षीय लसां बथिली को फ्रांस सरकार ने नागरिकता दी है.

लसां बथिली उस समय सुपर मार्केट के स्टॉकरूम में थे जब अमिदी कॉलिबली ने फ़ायरिंग शुरू की. इस हमले में चार लोग मारे गए थे.

लसां बथिली को नागरिकता देने के लिए आयोजित समारोह में फ्रांस के कुछ वरिष्ठ मंत्रियों ने हिस्सा लिया. इस अवसर पर बथिली ने कहा कि नागरिकता हासिल कर उन्हें गर्व का अनुभव हो रहा है.

आगे भी ऐसा ही करुंगा

पेरिस पर हुए अलग-अलग हमलों में कुल 17 लोगों की मौत हो गई थी. मरने वालों में अधिकतर व्यंग्य पत्रिका शार्ली एब्डो के कर्मचारी थे.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption पेरिस पर हुए आतंकी हमले में 17 लोगों की मौत हो गई थी.

बथिली ने अमिदी कॉलिबली के हमले के दौरान लोगों को सुपर मार्केट के कोल्ड स्टोर में छिपा दिया था.

नागरिकता देने के लिए आयोजित समारोह में बथिली ने कहा,''लोग कहते हैं कि मैं एक हीरो हूं. लेकिन मैं हीरो नहीं हूं. मैं लसां हूं. मैं अभी भी वही हूं. मैं भविष्य में भी वैसा ही करुंगा क्योंकि मैं अपने दिल की बात सनुता हूं.''

समारोह को फ्रांस के प्रधानमंत्री मैन्यूल वॉल्स और गृहमंत्री ब्रेनार्ड कॉज़ेन्यू ने संबोधित किया और लसां बथिली को उनकी बहादुरी के लिए धन्यवाद दिया.

लसां बथिली फ्रांस में पिछले नौ साल से रह रहे हैं. उन्होंने पिछले साल नागरिकता के लिए आवेदन दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार