अमरीकियों को ज़्यादा छुट्टी देंगे ओबामा

बराक ओबामा इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 'स्टेट ऑफ़ द यूनियन स्पीच' यानी अमरीकी संसद में दिए गए अपने सालाना संदेश में अर्थव्यवस्था पर ज़ोर दिया.

उन्होंने कहा कि अमरीकी जनता के लिए सालों की आर्थिक मुश्किलों और 'आंतकवाद' व लंबे युद्ध के दौर को बदलने का वक़्त आ गया है.

ओबामा पहली बार उस संसद को संबोधित कर रहे थे जिसमें उनके विरोधियों यानी रिपब्लिकन पार्टी के सांसद बहुमत में हैं.

एक नज़र उनके भाषण के पांच अहम बातों पर.

1. ओबामा ने ज़्यादा अमीर लोगों पर ज़्यादा टैक्स लगाने का प्रस्ताव रखा है. उन्होंने अपने संबोधन में देश में बढ़ रही आर्थिक असमानता को भी रेखांकित किया. उन्होंने कहा, ''क्या हमें ऐसी अर्थव्यवस्था चाहिए जिसमें केवल कुछ ही लोगों का फ़ायदा हो या फिर हर मेहनत करने वालो को विकास के अवसर देने वाली अर्थव्यवस्था चाहिए.''

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption उन्होंने आईएस के ख़तरों का ज़िक्र किया.

2. ओबामा ने अमरीकी छात्रों के लिए सामुदायिक और तकनीकी कॉलेजों में दो साल की मुफ़्त शिक्षा देने की घोषणा की है. इसके लिए एक दशक में अमरीकी सरकार को 60 अरब डॉलर ख़र्च का बोझ उठाना होगा.

3. ओबामा ने अमरीकी मिडिल क्लास के लिए पेड लीव (वेतन के साथ छुट्टी) बढ़ाने पर ज़ोर दिया. उन्होंने कहा कि देश के श्रमिकों को छह सप्ताह अतिरिक्त पेरेंटल लीव मिलना चाहिए. इसके लिए उन्होंने अमरीकी कांग्रेस से दो अरब डॉलर का ख़र्च उठाने की मांग की.

4. उन्होंने यूरोपियन यूनियन और एशिया पैसेफ़िक देशों के साथ कारोबारी संबंध बढ़ाने पर ज़ोर दिया है. इसके लिए उन्होंने फ़ास्ट ट्रैक ट्रेड प्रमोशन अथॉरिटी के गठन का प्रस्ताव रखा.

5. बराक ओबामा ने इराक़ और सीरिया में इस्लामिक स्टेट के बढ़ते ख़तरे का ज़िक्र करते हुए कहा कि हमें इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ मिशन में एकजुटता दिखानी होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार