टेनिस की दुनिया में मेलबर्न चमकता रहेगा

रोजर फ़ेडरर इमेज कॉपीरइट AFP

मेलबर्न शहर को साल का पहला ग्रैंड स्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन आयोजित करने का अधिकार 2016 तक ही हासिल था लेकिन उसे अब साल 2036 तक कर दिया गया है.

लेकिन इसके साथ ही इसके ऊपर होने वाले निवेश पर बहस छिड़ गई है.

मेलबर्न को एक अरब ऑस्ट्रेलियन डॉलर शहर की खेल सुविधाओं के विकास पर ख़र्च करने होंगे.

इस कड़ी में पहले चरण का काम अभी-अभी पूरा हुआ है जिसके तहत स्टेडियम में 1500 अतिरिक्त सीटें और मार्गेट कोर्ट एरिना पर सरकाने वाली छत बनाई गई है.

अब मेलबर्न में तीन कोर्ट पर ऐसी छतें हो गई हैं. इससे गर्मी के मसले से निपटने में मदद मिलेगी.

समस्या

इमेज कॉपीरइट Getty

पिछले साल टूर्नामेंट के दौरान भीषण गर्मी एक बड़ी समस्या बन गई थी.

टेनिस ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कार्यकारी क्रेग टीले का कहना है कि इस निवेश का बहुत फ़ायदा होगा.

उनका कहना है, "ऑस्ट्रेलियन ओपन से हर साल क़रीब 20 करोड़ ऑस्ट्रेलियाई डॉलर की कमाई होती है. अगर हम 30 सालों में 90 करोड़ ऑस्ट्रेलियन डॉलर का निवेश करने जा रहे हैं तो कुछ सालों की कमाई में ही इसकी भरपाई हो जाएगी."

लेकिन यूनिवर्सिटी ऑफ़ न्यू साउथ वेल्स के अर्थशास्त्र के प्रोफ़ेसर लैरी डॉयर का कहना है कि यह इतना आसान नहीं है जितना लगता है.

क़ीमत

इमेज कॉपीरइट Getty

वह चेताते हैं कि बड़े स्तर के आयोजनों को अक्सर बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया जाता है लेकिन यह अहम है कि इसके सभी संभावित ख़र्चों को इसकी लागत में शामिल किया जाए.

वह इसमें सामाजिक, पर्यावरणीय, ट्रैफ़िक, लोगों को होने वाली परेशानियों, शोरगुल, आयोजन की वजह से सड़कों के बंद होने, भीड़-भाड़ और तमाम तरह की चीजों को शामिल करते हैं.

विक्टोरिया प्रांत के खेल और पर्यटन मंत्री जॉन इरेन का कहना है कि ऑस्ट्रेलियन ओपन, मेलबर्न में होने वाले खेल आयोजनों का ताज है.

उनका कहना है कि यह विक्टोरिया सरकार के लिए काफ़ी अहम है.

कुछ भी हो इस अनुबंध के साथ मेलबर्न ने टेनिस की दुनिया में अपनी एक ख़ास जगह तो ज़रूर पक्की कर ली है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार