सऊदी शाह के लिए झंडा झुकाने का विरोध

  • 24 जनवरी 2015
सऊदी अरब, झंडा इमेज कॉपीरइट AFP

सऊदी अरब के शाह अब्दुल्लाह के निधन पर ब्रिटेन की सरकारी इमारतों पर देश के झंडे झुकाने की आलोचना हो रही है.

जिन इमारतों पर झंडे झुकाए गए हैं उनमें ब्रितानी संसद भवन और वेस्टमिंस्टर आबे भी शामिल है.

किसी विदेशी राष्ट्राध्यक्ष की मौत पर राष्ट्रध्वज का झुकाया जाना एक सामान्य प्रक्रिया है लेकिन ब्रिटेन के कई राजनेताओं, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अख़बारों ने इस बार इसका विरोध किया है.

दुनिया भर के शीर्ष नेता दिवंगत सऊदी शाह अब्दुल्लाह को श्रद्धांजलि देने के लिए सऊदी अरब जा रहे हैं.

'अनैतिक'

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption 90 वर्षीय शाह अब्दुल्लाह का शुक्रवार को अंतिम संस्कार किया गया

ब्रिटेन में आलोचकों की दलील है कि कई मामलों में सऊदी अऱब का रिकॉर्ड बहुत ख़राब है इसलिए ऐसा नहीं किया जाना चाहिए.

ख़ासतौर पर महिलाओं से भेदभाव, बोलने पर पाबंदी, धार्मिक आज़ादी पर रोक और कठोर न्यायिक सज़ाएं- जिनमें कोड़े मारना और फांसी शामिल हैं- की वजह से सऊदी अरब की आलोचना होती है.

कई सांसदों ने झंडा झुकाए जाने को अनैतिक बताते हुए जनता की भावना के विपरीत बताया है.

हाल ही में रइफ बादावी नाम के एक ब्लॉगर को सऊदी अरब में धार्मिक बहस छेड़ने के अभियोग में 1,000 कोड़े मारने और 10 साल के क़ैद की सज़ा हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार