अमरीका में कितने ताकतवर रह गए हैं ओबामा?

  • 26 जनवरी 2015
राष्ट्रपति बराक ओबामा इमेज कॉपीरइट Reuters

साल 2008 में जब बराक ओबामा पहली बार अमरीका के राष्ट्रपति बने थे तो लोगों को उनसे बहुत उम्मीदें थीं. अमरीका में उन्हें एक नई लहर की तरह देखा गया था.

और अब बतौर राष्ट्रपति उनके छह साल हो गए हैं, यहां से उनके कार्यकाल के ढलान की शुरुआत कही जा सकती है. दो साल बाद वो राष्ट्रपति नहीं रहेंगे.

(पढ़ेंः मोदी ओबामा मुलाकात की दस अहम बातें)

अमरीका में जब किसी राष्ट्रपति के कार्यकाल के दो साल बचे रह जाते हैं तो उसे 'लेम-डक' राष्ट्रपति कहा जाता है.

यानी, ऐसा राष्ट्रपति जो बड़े फैसले ले पाने की स्थिति में नहीं होता है. ख़ास कर इस वक्त जब कांग्रेस के दोनों ही सदनों में विपक्षी रिपब्लकिन पार्टी का बहुमत है.

पढ़ें, विस्तार से

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ओबामा जब दूसरी बार निर्वाचित हुए थे तो उनके पास मौका था. उस वक्त उन्हें सोचना चाहिए था कि वे इतिहास में अपनी विरासत के तौर पर क्या छोड़ जाएंगे. और इतिहास उन्हें किस तरह से याद करेगा.

(पढ़ेंः ओबामा बोले, 'मेरा प्यार भरा नमस्कार')

लोग उम्मीद कर रहे थे कि वे भी अब्राहम लिंकन, जॉर्ज वाशिंगटन, फ़्रैंकलिन डी रुज़वेल्ट जैसे महान राष्ट्रपतियों की कतार में शामिल हों.

इसमें कोई संदेह नहीं है कि बराक ओबामा ने अच्छा काम किया है और वे एक अच्छे राष्ट्रपति के तौर पर याद किए जाएंगे.

लेकिन महान राष्ट्रपति बनने के लिए उन्हें अभी कड़े फैसले लेने होंगे.

अब्राहम लिंकन ने दास प्रथा खत्म करने जैसा कड़ा फैसला लिया और इतिहास में दर्ज गए. ओबामा भी लिंकन को ही अपना आदर्श मानते हैं.

प्रतीकात्मक महत्व

इमेज कॉपीरइट AP

ओबामा ने अल कायदा के नेता ओसामा बिन लादेन को ख़त्म किया, अफ़ग़ानिस्तान और इराक़ से सैनिक वापस बुला लिए, अमरीका की अर्थव्यवस्था के लिए उन्होंने बहुत कुछ किया है.

(पढ़ेंः ओबामा को मिली गुजराती कढ़ी)

लेकिन अंतरराष्ट्रीय चरमपंथ के मुद्दे पर जितने कड़े फैसले लिए जाने चाहिए थे, वे नहीं लिए गए.

इमेज कॉपीरइट Getty IMAGES

अभी दो साल उनके पास हैं. लेमडक राष्ट्रपति होने के बावजूद भी उनकी कही गई बातों का प्रतीकात्मक महत्व है.

अमरीका में राष्ट्रपति का कार्यकाल चार साल का होता है जिसमें पहले दो साल गंभीरतापूर्वक काम होता है.

(पढ़ेंः 'अमरीका में नहीं है सुरक्षा का ऐसा तामझाम')

आखिरी दो सालों में ध्यान इस बात पर होता है कि कौन अगला राष्ट्रपति बनेगा.

वीटो पावर

इमेज कॉपीरइट AFP

अब कांग्रेस के दोनों सदनों में रिपब्लिकनों को वर्चस्व हो गया है. ऐसी स्थिति में ओबामा की ताकत सीमित हो जाती है लेकिन उनके पास वीटो पावर है.

वे चाहें तो ख़ास स्थितियों में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं और कुछ नए कदम भी उठा सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

भले ही वीटो पावर का इस्तेमाल असाधारण परिस्थितियों में ही किया जाता हो लेकिन राष्ट्रपति के पास इसका विकल्प तो रहता ही है.

ओबामा रिपब्लिकन और डेमोक्रेट के बीच तमाम कोशिशों के बावजूद तालमेल नहीं बिठा सके. लेकिन यह अमरीकी सिस्टम की ख़ामी ज़्यादा कही जा सकती है.

एक तरीके से कहा जाए तो अमरीकी राष्ट्रपति अपनी व्यवस्था के क़ैदी की तरह होते हैं.

(हॉर्वर्ड यूनीवर्सिटी में राष्ट्रपति ओबामा के सहपाठी रहे एडवोकेट सूरत सिंह के साथ बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद की बातचीत)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार