'कठपुतलियों' से बात नहींः असद

असद इमेज कॉपीरइट AP

सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद ने पश्चिमी देशों के समर्थन वाले विपक्ष को 'कठपुतली' बताते हुए खारिज कर दिया है.

मास्को में शांति वार्ता का नया दौर शुरू हो रहा है.

'फॉरेन अफेयर्स' पत्रिका को दिए इंटरव्यू में असद ने सवाल किया कि 'बाहर से पैसा पाने वाले' लोगों से किसी भी तरह की बातचीत का क्या फ़ायदा होगा.

पश्चिमी देशों के समर्थन वाला मुख्य विपक्षी गठबंधन 'द नेशनल कोलिशन' पहले ही कह चुका है कि यह चार दिवसीय वार्ता में शामिल नहीं होगा.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption साल 2014 की शुरुआत में जिनीवा में हुई दो दौर की शांति वार्ता असफल रही थी.

हालांकि इसके पांच सदस्य निजी स्तर पर इस बैठक में शामिल होंगे. उनके साथ विपक्ष के वह नेता शामिल होंगे जिन्हें सीरिया सरकार मान्यता देती है.

'भूमिका पर सवाल'

असद के पक्के समर्थक रूस की मेज़वानी यह वार्ता सोमवार को शुरू हुई जिसमें विपक्ष के 30 सदस्यों के शामिल होने की उम्मीद थी.

संयुक्त राष्ट्र में सीरिया के स्थाई प्रतिनिधि बशर जाफरी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल बुधवार को उनसे मिलेगा.

नेशनल कोलिशन के एक सूत्र ने रूस की तटस्थ मध्यस्थ की भूमिका को लेकर सवाल उठाए और समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा, "किसी भी तरह की बातचीत किसी तटस्थ देश में होनी चाहिए और संयुक्त राष्ट्र को इनकी निगरानी करनी चाहिए."

इससे पहले 2014 की शुरुआत में संयुक्त राष्ट्र की मध्यस्थता में जिनीवा में हुई दो दौर की वार्ता असफल रही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार