चूकेंगे नहीं, चुकाएंगे क़र्ज़ः ग्रीस

  • 29 जनवरी 2015
ग्रीस प्रधानमंत्री इमेज कॉपीरइट EPA

ग्रीस के नए प्रधानमंत्री एलक्सिस सिपरास ने कहा है कि उनका देश क़र्ज़ चुकाने में चूकेगा नहीं.

रविवार को चुने जाने के बाद अपनी पहली मंत्रिमंडलीय बैठक को संबोधित करते हुए वामपंथी सीरिज़ा पार्टी नेता ने कहा कि वह 240 अरब यूरो (167.11 ख़रब रुपये से ज़्यादा) के बेलआउट पैकेज पर उधार देने वालों से बात करेंगे.

ज़रूरतमंदों की मदद करने को प्राथमिकता बताते हुए सिपरास ने आर्थिक सार के लिए 'व्यावहारिक प्रस्ताव' लाने का वादा किया और भ्रष्टाचार से लड़ने की क़सम खाई.

शर्तें

इमेज कॉपीरइट getty

यूरोपीय यूनियन ने उनकी सरकार को चेतावनी दी है कि वह क्रेडिटर्स (उधार देने वालों) के किए वायदे निभाएं.

ग्रीस के 10-वर्षीय बॉंड की आय 10% बढ़ी है- जिससे आने वाले महीनों में निवेशकों की चिंता ज़ाहिर होती है कि क़र्ज़ के पुनर्निर्धारण का अल्पकालिक ख़तरा हो सकता है.

सिपरास ने टीवी पर प्रसारित मंत्रिमंडल की बैठक में कहा, "हम लोग एक-दूसरे के नुक़सान वाले संघर्ष में नहीं उलझेंगे लेकिन हम लोग पराधीनता की नीति को भी जारी नहीं रखेंगे."

ग्रीस को बेलआउट देने वाली तीन शक्तियों- यूरोपियन यूनियन, यूरोपीय केंद्रीय बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने अपने पैसे के बदले बड़े पैमाने पर बजटीय कटौती और नवीनीकरण की शर्तें रखी हैं.

ग्रीस के सम्मान को बचाने की क़सम खाते हुए सिपरास ने कहा कि ग्रीस के क़र्ज़ को लेकर फिर से बात 'एक व्यवहार्य, न्याय संगत और सबके फ़ायदे का समाधान' निकालने के लिए की जाएगी.

इमेज कॉपीरइट AP

उन्होंने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी.

उनके रिकवरी प्लान जिसमें सुधार और बदलाव के साथ ही कर चोरी को रोकने की बात है, का उद्देश्य भविष्य में घाटे से बचना है.

ग्रीस सरकार के मुख्य आर्थिक प्रवक्ता यूक्लिड त्साकलोटस ने कहा है कि ग्रीस से क़र्ज़ पूरी तरह चुकाने की उम्मीद करना 'अव्यवहारिक' है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार