बीजिंग में बुजुर्गों की उपेक्षा अपराध

  • 30 जनवरी 2015
चीन में तेज़ी से बढ़ रही बुजुर्गों की तादाद इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

चीन की राजधानी बीजिंग में बुज़ुर्गों की सेवा और देखभाल करना क़ानूनी तौर पर ज़रूरी कर दिया गया है. ऐसा न करना ज़ुर्म माना जाएगा और इसके लिए सज़ा भी दी जाएगी.

चीन सरकार की समाजार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक़, "बीजिंग म्युनिसपल पीपल्स कांग्रेस की स्थाई समिति ने एक विधेयक पास कर कहा है कि बच्चों के लिए ज़रूरी होगा कि वे अपने बूढ़े माता पिता की देख भाल करें. यह क़ानून एक मई से लागू होगा."

इस विधेयक के अनुसार के अनुसार बुज़ुर्गों को अध्यात्मिक सांत्वना देना भी बच्चों की ही ज़िम्मेदारी होगी.

सरकार देगी मदद

इमेज कॉपीरइट Getty Images

विधेयक में यह व्यवस्था भी है कि सरकार इस काम के लिए लोगों को आर्थिक मदद भी देगी. कम आमदनी वाले लोगों को सरकार कुछ पैसे देगी.

इसके अलावा किसी तरह की अपंगता वाले बुज़ुर्गों की देखभाल के लिए भी सरकार सब्सिडी देगी.

सरकार ने बुज़ुर्गों की देखभाल के लिए बनने वाले सामुदायिक केंद्रों और अस्पतालों को भी अनुदान देने का एलान किया है.

बुज़ुर्गों की तादाद

इमेज कॉपीरइट Getty

बीजिंग में बुज़ुर्गों की तादाद कुल आबादी का लगभग छह फ़ीसदी है. पिछले साल शहर में तीस लाख से ज़्यादा बुज़ुर्ग थे.

वर्ष 2020 तक इनकी तादाद बढ़ कर चालीस लाख हो जाने की संभावना है.

चीन में 60 वर्ष से अधिक की उम्र के लोगों की संख्या फ़िलहाल 20 करोड़ है. यह देश की कुल जनसंख्या का तक़रीबन 14 प्रतिशत है.

वर्ष 2050 तक यह तादाद बढ़ कर 40 करोड़ होने की संभावना है. चीन में 90 फ़ीसदी से ज़्यादा लोग घरों में बच्चों के साथ रहते हुए सरकारी पेंशन लेना पसंद करते हैं.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप क्लिक करें बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार