चीन: दीवारों पर पेंटिग से सरकार असहज!

पेंटिग,शंघाई,चीन इमेज कॉपीरइट BBC World Service

चीन में विकास के लिए पुरानी इमारतों को हटाना का मुद्दा अक्सर राजनीतिक रूप से काफ़ी संवेदशील विषय रहा है लेकिन ये इन दिनों अपनी ख़ास वजह से चर्चा में है.

चीन के दूसरे शहरों की तुलना में शंघाई में बहुत सारे पुराने वास्तुशिल्प के नमूने बचे हुए हैं लेकिन आर्थिक विकास की बढ़ती गति ने दबे पांव इसके एक बड़े हिस्से में सेंध लगा दी है.

कुछ महीने पहले ऐसे ही दो निर्माण स्थलों पर मलबे के बीच अचानक मर्मस्पर्शी रंगीन पेंटिग्स दिखाई दी.

ये पेंटिग्स भित्तिचित्र कलाकार जूलियन मलांड और चीनी कलाकार शी झेंग के है.

वायरल

बहुत हद तक संभव है कि उनपर किसी का ध्यान नहीं गया होगा लेकिन कुछ दिन पहले जब एक चीनी अख़बार में इनकी तस्वीरें प्रकाशित हुई तो सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं.

इन पेंटिंग्स में चीन में दशकों से चल रहे निर्माण कार्य को लेकर हो रहे निराशा की अभिव्यक्ति है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इन पेंटिग्स में ज़्यादातर बच्चों का चित्रांकन किया गया है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

तस्वीरों में बच्चों को अपने छोटे से घर के साथ दिखाया गया है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इन पेंटिंग्स की बढ़ रही लोकप्रियता के कारण इन निर्माण स्थलों पर देखने वालों और फ़ोटोग्राफरों का तांता लगा हुआ है.

शादी करने वाले जोड़े इन पेंटिग्स का इस्तेमाल अपनी शादी की तस्वीर में बैकग्राउंड के तौर पर करना चाह रहे हैं.

निरंकुश सरकार

इसने ज़िला प्रशासन के कान खड़े कर दिए. उन्होंने सुरक्षा का हवाला देते हुए इन पेंटिग्स को तुरंत साफ़ करने का आदेश दिया जिसे फ़ौरन अमल में भी लाया गया.

लेकिन कई इंटरनेट यूजर्स सुरक्षा के इस तर्क से सहमत नहीं नज़र आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

वे सवाल खड़ा कर रहे हैं कि इतनी जल्दबाज़ी में इन पेंटिग्स को क्यों नष्ट किया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ये कलाकृतियां निश्चित तौर पर राजनीतिक नहीं थी लेकिन ये चीन की विकास संबंधी जल्दबाज़ी को संवेदनशील तरीक़े से रेखांकित करती है.

और इन्हें हटाना इस दौरान निरंकुश सरकार को होने वाली परेशानियों को दर्शाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार