जिसने मगरमच्छ से लिया बदला

इमेज कॉपीरइट MOSES BIKALA

युगांडा की दिमित्री नाबिरी चार महीने पहले घर के पास झील के किनारे पानी लेने गई थीं. वहां एक मगरमच्छ ने उन्हें अपना शिकार बना डाला.

उनके पति मुबारक बाताम्बुज़ बेहद सदमें में आ गए क्योंकि उनकी पत्नी उस वक्त गर्भवती थीं.

इस घटना में उन्होंने ना केवल अपनी पत्नी को खोया बल्कि उनका अजन्मा बच्चा भी इसी मगरमच्छ की भेंट चढ़ गया.

मगर जब वह मगरमच्छ उसी इलाके में वापस आया तो उसे नाबिरी के पति के जुनून का सामना करना पड़ा जो अपनी पत्नी की हत्या का बदला लेने के लिए तैयार थे.

पिछले महीने किसी ने उन्हें बताया कि उनकी पत्नी को मारने वाला मगरमच्छ फिर देखा गया है. यह सुनकर वो अपने दोस्तों के साथ झील के किनारे गए.

वो बताते हैं, ''वह बहुत बड़ा और दैत्याकार था. हमने उसे पत्थरों और डंडों से मारने की कोशिश की, लेकिन हम उसका कुछ कर नहीं सके.''

लोहार ने बनाया भाला

इमेज कॉपीरइट

मुबारक बाताम्बुज़ इलाके के लोहार के पास गए और उन्होंने उससे कहा, “ मैं एक दरिंदे का मुकाबला कर रहा हूँ जिसने मेरी पत्नी और उसके पेट में बच्चे को मारा है और मैं उससे बदला लेना चाहता हूँ. मुझे एक भाला बनाकर दो उस मगरमच्छ को मार सके.”

लोहार ने उनके लिए एक ऐसा भाला बनाया, जिसके किनारे पर कांटे लगे थे.

मुबारक़ कहते हैं,'' मगरमच्छ मेरी पत्नी को पूरा खा गया था. उसके शरीर का कोई अंग या कपड़ा भी दोबारा नज़र नहीं आया, जिससे मैं उसकी पहचान कर सकूं. यह मेरी दुनिया का अंत था. मेरा सब कुछ लुट गया था.''

मगरमच्छ को मारने जब गए तो वह वहाँ था. उसे देख मुबारक़ के दोस्त डर गए. उन्होंने किसी तरह उन्हें रोका.

मुबारक़ कहते हैं कि उन्हें इस बात का डर नहीं था कि मगरमच्छ से लड़ते हुए उनकी मौत भी हो सकती है.

उन्होंने बताया,'' मैंने मगरमच्छ के बगल में भाले को भोंक दिया, जबकि मेरे दोस्त उसके पीछे पत्थर फेंक रहे थे. मगरमच्छ ने अपना मुँह उठाकर मुझपर हमला करने की कोशिश की, लेकिन मैंने उसे रस्सी में फंसा लिया.''

वैज्ञानिकों की राय

Image caption अभी यह साफ़ नहीं है कि मगरमच्छ के पेट से मिली पिंडली की हड्डी किसी इंसान की ही है.

लड़ाई करीब डेढ़ घंटे तक चली. इस तरह मगरमच्छ मारा गया. मगरमच्छ को मारने के बाद जब मुबारक़ और उनके दोस्त अपने गांव पहुँचे तो लोगों ने उनका किसी हीरो की तरह स्वागत किया.

युगांडा के वन्य जीव अधिकारी ओसवाल्ड तुमान्या ने बताया कि मगरमच्छ चार मीटर से भी अधिक लंबा और क़रीब छह सौ किलो वज़नी था.

मगरमच्छ के शव को कांपला के माकारेरे विश्वविद्यालय ले जाया गया, जहां एक पशुचिकित्सक ने उसका परीक्षण किया. उसके पेट से पिंडली की हड्डी मिली. लेकिन यह अभी साफ़ नहीं है कि वो किसी इंसान की ही हड्डी है.

ऑस्ट्रेलिया के चार्ल्स डार्विन विश्वविद्यालय के मगरमच्छ विशेषज्ञ एडम ब्रिटन कहते हैं, "सामान्य परिस्थितियों में यह बहुत असंभव है कि बारह हफ़्ते बाद भी मगरमच्छ की आंत में आहार की कोई हड्डी बची रहे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार