यूक्रेन: शांति समझौते पर ख़तरा

  • 14 फरवरी 2015
यूक्रेन में हमले फिर बढ़े हैं इमेज कॉपीरइट AFP

यूक्रेन के राष्ट्रपति पेत्रो पोरोशेंको ने कहा है कि लड़ाई रोकने के लिए अलगाववादी विद्रोहियों के साथ हुआ शांति समझौता 'ख़तरे' में है.

शनिवार को लागू हो रहे युद्धविराम के ठीक पहले हुई ज़बरदस्त गोलाबारी पर उन्होंने चिंता जताई है.

पोरोशेंको ने मिंस्क में हुए शांति समझौते के बावजूद रूस पर हमले बढ़ाने का आरोप लगाया है.

संघर्षविराम लागू करने के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने रविवार को एक आपात बैठक बुलाई है.

फ्रांस, रूस और यूक्रेन के राष्ट्रपतियों तथा जर्मनी की चांसलर के बीच इस मुद्दे पर फ़ोन पर बात होने की संभावना है.

12 मारे गए

इमेज कॉपीरइट EPA

संघर्षविराम लागू होने में अभी 24 घंटे से कम समय बाक़ी हैं लेकिन संवाददाताओं का कहना है कि अभी लड़ाई रुकने के कोई संकेत नहीं हैं.

दूसरी ओर, अमरीका ने सीमा पार रूस से भारी मात्रा में हथियारों के यूक्रेन में आने पर चिंता जताई है.

शुक्रवार को अलगाववादी विद्रोहियों और यूक्रेनी सेना के बीच हुई गोलाबारी में कम से कम 12 लोग मारे गए.

यूक्रेन के पूर्वी हिस्से दोनेत्स्क और लुहांस्क पर विद्रोहियों का क़ब्ज़ा है और उन्होंने इन इलाक़ों को यूक्रेन से अलग गणराज्य घोषित कर दिया है.

डेबाल्टसीव के लिए लड़ाई

इमेज कॉपीरइट AP

डेबाल्टसीव शहर में ज़बरदस्त लड़ाई चल रही है. यूक्रेन के उप रक्षा मंत्री पेत्रो मेखेद के मुताबिक़ विद्रोहियों ने डेबाल्टसीव और मारुईपोल पर क़ब्ज़ा करने की भरपूर कोशिश की, पर वे नाकाम रहे.

विद्रोहियों की गोलाबारी में लुहांस्क के नज़दीक शखस्त्या में दो लोग मारे गए, जबकि डेबाल्टसीव के पास अर्तेमिवस्क में एक बच्चा मारा गया.

दूसरी ओर, विद्रोहियों ने दावा किया है कि दोनेत्स्क के नज़दीक होर्लीव्का में यूक्रेनी सेना की गोलाबारी में छह लोग मारे गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार