सीमा पार से हमले रोके चीन: म्यांमार

  • 20 फरवरी 2015
कोकांग में गश्त लगाते सैनिक इमेज कॉपीरइट EPA

म्यांमार यानी बर्मा ने कहा है कि सीमा पार से होने वाले चरमपंथी हमले रोकने के लिए चीन अपनी धरती का इस्तेमाल न होने दे.

सेना और जातीय अल्पसंख्यक समूहों के बीच लड़ाई तेज़ होने के बाद म्यांमार के पूर्वोत्तर इलाक़े में सैन्य शासन लगा दिया गया है.

सेना प्रमुख ने विदेशी शक्तियों पर विद्रोहियों की मदद करने का आरोप लगाया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इन आरोपों से इनकार करते हुए चीन ने लड़ाई के शांतिपूर्ण समाधान की अपील की है.

सीमा पार हमले

राष्ट्रपति थिन शेन के कार्यालय के अधिकारी हुमु जा ने फ़ेसबुक पर जारी एक बयान में सीमा पार हमलों को लेकर इशारा किया है.

उन्होंने कहा, ''सहयोग के लिए यह समझ ज़रूरी है कि म्यांमार पर चीनी क्षेत्र से हमलों की इजाज़त नहीं दी जाएगी.''

Image caption कोकांग में नौ फ़रवरी से जारी लड़ाई में अब तक 50 सैनिक और 26 विद्रोही मारे जा चुके हैं.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़ इस पर प्रतिक्रिया देने के लिए चीनी अधिकारी उपलब्ध नहीं थे.

उत्तर-पूर्व के कोकांग क्षेत्र में गुरुवार को छिटपुट हिंसा जारी रही. कोकांग में स्वायत्ता की मांग कर रहे नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस आर्मी (एमएनडीएए) के साथ सेना नौ फ़रवरी से लड़ रही है.

लड़ाई में अब तक 50 सैनिकों और 26 विद्रोहियों की मौत हो चुकी है और हज़ारों लोगों को विस्थापित होना पड़ा है.

चीनी मीडिया के मुताबिक़ हाल के हफ़्तों में म्यांमार के क़रीब 30 हजार नागरिकों ने सीमा पार की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार