एवरेस्ट पर जाने के लिए अनुमति का इंतज़ार

  • 26 फरवरी 2015
माउंट एवरेस्ट इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले साल माउंट एवरेस्ट का अभियान छोड़ने के लिए मजबूर किए गए सैकड़ों पर्वतारोही 2015 में फिर से एक और कोशिश करने के लिए अनुमति मिलने का इंतज़ार कर रहे हैं.

उनका कहना है कि नेपाल सरकार के फ़ैसला न लिए जाने से वह अनिश्चित स्थिति में फंस गए हैं. उनका कहना है कि अधिकारियों ने वादा किया था कि 2014 में शेरपा हड़ताल के बाद लगभग 300 पर्वतारोहियों के परमिट पांच साल के लिए मान्य कर दिए जाएंगे.

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले अप्रैल में आए हिमस्खलन में शेरपाओ ने अपने 16 सहयोगियों की मौत के बाद एवरेस्ट अभियान का बहिष्कार किया था.

लगभग 12 अंतरराष्ट्रीय ऑपरेटरों और नेपाल के एक्सपेडिशन ऑपरेटर्स एसोसिएशन मांग कर रहे हैं कि 31 अलग अलग समूहों के पर्वतारोहियों को अकेले या फिर अपनी पसंद की किसी भी टीम के साथ पर्वत पर चढ़ने की अनुमति दी जानी चाहिए.

जबकि सरकारी अधिकारियों का कहना है कि वह पिछले साल जारी किए गए परमिट को मंज़ूर करने के लिए तैयार हैं लेकिन पर्वतारोही जिस टीम के साथ गए हैं उन्हें उसी टीम के साथ वापस आना होगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

एक पर्वतारोही गॉर्डन जेनो कहते हैं कि ''पिछले साल परमिट पाने वाले जो पर्वतारोही अगले महीने एवरेस्ट पर चढ़ने की उम्मीद लगाए हुए हैं,नेपाल सरकार की तरफ़ से फ़ैसला न लिये जाने से उनकी उम्मीदों पर पानी फिर सकता है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार