आराम तलब होती दुनिया

मेनहैटन का लग्जरी अपार्टमेंट

विश्व में लग्ज़री सामान बनाने वाली सबसे बेहतरीन कंपनी के प्रमुख से जब लग्ज़री की परिभाषा पूछी गई तो वह चकरा गए.

''मैं इस प्रश्न के लिए तैयार नहीं था. मुझे इस पर सोचने के लिए कुछ समय चाहिए.''

वह ये कह सकते थे कि जब आप जीवित रहने के लिए अनिवार्य माने जाने वाली चीज़ें हासिल कर लेते हैं, तब जीवन में आराम का एक स्तर प्राप्त होता है. इसके आगे जो भी आप हासिल करते हैं वो लग्ज़री कहलाता है.

बढ़ता जा रहा लग्ज़री बाज़ार

इमेज कॉपीरइट xinhua

बाज़ार आंकड़ों पर नजर रखने वाली संस्था यूरोमॉनिटर के विशेषज्ञों के अनुसार लग्ज़री सामान के वैश्विक बाज़ार का विकास चकित कर देने वाला है और हमेशा ऐसा ही रहा है.

पांच साल पहले जो 247 अरब डॉलर का कारोबार था वो पिछले साल 338 अरब डॉलर का हो गया. इस कारोबार में पांच सालों में 36% की बढ़त दर्ज की गई है.

इन बाज़ारों में सबसे अधिक मांग रूस, चीन और तेज़ी से विकास कर रहे दूसरे देशों से आती हैं. लेकिन रूस में विकास धीमा होने के चलते वहां से आने वाली मांग पर फ़र्क़ पड़ा है.

यूरोमॉनिटर के ग्लोबल लग्ज़री मैनेजर फ़्लर रॉबर्ट का कहना है कि ''कई देशों में सामाजिक तनाव और राजनीतिक संकट का तेज़ी से बढ़ रहे इस बाज़ार पर बड़ा असर पड़ा है.''

इमेज कॉपीरइट Reuters

यूरोमॉनिटर का अनुमान है कि 2019 तक लग्ज़री सामान पर होने वाला ख़र्च 463 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा. जिसके मुताबिक़ पिछले 10 सालों में 88% का उछाल आने की संभावना है.

महिलाओं के लिए ज़्यादा चीज़े

लग्ज़री बाज़ार में तेज़ी से बढ़ती श्रेणी है एक्सेसरीज़ की जिसमें पर्स, बैग, धूप के चश्मे, फ़ोन, टेबलेट कवर आदि शामिल हैं.

ब्रैंडिंग कन्सलटेंट कैफ़ीन पार्टनरशिप के संस्थापक एन्डी मिलिगन कहते हैं कि इन लग्ज़री चीज़ों की मार्केटिंग बहुत ही सावधानी से की जाती है ताकि लोग इनपर ज़्यादा से ज़्यादा पैसे ख़र्च करें. वे कहते हैं, "सबसे पहले आप किसी लग्ज़री चीज़ और फिर ब्रैंड से प्रभावित होते हैं बाद में पैसों पर बात होती है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अरमानी के अलग अलग प्राइस पॉइंट हैं इसी तरह प्रादा, गुच्ची, टिफ़नी के भी. कुछ ऐसे प्रॉडक्ट भी होते हैं उदाहरण के तौर पर परफ़्यूम जिसकी थोड़ी ज्यादा क़ीमत होती है, इनकी बोतलों को ख़ुबसूरत आकार दिया जाता है ताकि लोग इन्हें ख़रीदकर अच्छा महसूस करें.

परफ़्यूम और कॉस्मेटिक 55 फ़ीसदी रेवेन्यू जुटाते हैं.

बड़े लग्ज़री सामानों की बिक्री अतिसम्पन्न लोग ही करते हैं जबकि छोटे छोटे समानों से ही इस बाज़ार ने बड़ी कामयाबी हासिल की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार