कब योग्यता कम बताने में समझदारी?

इमेज कॉपीरइट Getty

लिंडा एडजेई ने कभी नहीं सोचा था कि मानव संसाधन क्षेत्र में उनके कई साल का अनुभव नौकरी पाने की राह आसान करने के बजाए उसे मुश्किल बनाएगा.

अपनी कंपनी में रिस्ट्रक्चरिंग के चलते उन्होंने कई जगहों पर नौकरी के लिए आवेदन किए और हर जगह से उन्हें एक ही संदेश मिला, "आप ओवरक्वालिफ़ायड हैं, यानी आपकी योग्यता ज़्यादा है."

कई महीनों तक अंतरराष्ट्रीय कंपनियों में उसी पद के लिए वे आवदेन करती रहीं, जिस पर वह काम करती थीं. बाद में उन्होंने स्टार्ट अप और प्रबंधकीय क्षेत्र में भी नौकरी तलाशनी शुरू की तो उन्हें नौकरी मिल गई.

एडजेई जैसे कई सक्षम पेशेवरों को जब ओवर-क्वालिफ़ायड या ज़्यादा योग्य कहकर नौकरी देने से इनकार किया जाता है, तो ये उनके लिए झटका ही होता है.

(पढ़ें- नौकरी चाहिए तो रिज़्यूमे में क्या लिखें या नहीं लिखें?)

तीन तरह के लोग ओवर-क्वालिफ़ायड

मैसाच्यूएट्स के एक्जीक्यूटिव हायरिग फर्म विंटरवायम के प्रबंध निदेशक जोनाथन माज़्जूकी के मुताबिक हायरिंग मैनेजर तीन तरह के आवेदकों को ओवर-क्वालिफ़ायड कहा जाता है.

उन्होंने बताया, "पहली श्रेणी में वे होते हैं जिनके पास कई साल का अनुभव होता है, इसलिए नौकरी की भूमिका उनके लिए कमतर होती है."

उनके मुताबिक दूसरी श्रेणी में वे होते हैं जिनके पास स्किल्स तो कई होते हैं लेकिन उनके जल्दी बोर होने की संभावना होती है.

इमेज कॉपीरइट Other

वहीं तीसरी श्रेणी में वे आते हैं जो बहुत ज़्यादा निपुण होते हैं और जल्दी जल्दी नौकरियां बदलते हैं."

रिज्यूमे का रोल अहम

माज़्जूकी ने ईमेल से बताया, "उम्मीदवार के तौर पर आपको इस तरह के परसेप्शन को बदलना होता है. अगर आप खुद को ईमानदार और तथ्यपरक रहते हुए प्रभावी ढंग से पेश करते हैं तो आपको नौकरी मिल सकती है, भले आप उससे कमतर क्यों ना हों."

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

आपका रिज़्यूमे एक तरह से मार्केटिंग टूल है. माज्जूकी कहते हैं, "रिज़्यूमे के जरिए आप चीजों में थोड़ा बहुत बदलाव करके बेहतर प्रभाव उत्पन्न कर सकते हैं. लेकिन आपको अपने तथ्य सटीक रखने होंगे."

माज़्जूकी कहते हैं, "अगर आपके पास जरूरत से ज्यादा डिग्रियां मौजूद हैं, तो गैर जरूरी डिग्रियों का जिक्र नहीं करना बुद्धिमानी है."

ओवर-क्वालिफ़ायड हों तो क्या करेंगे आप

अब अगर आप डायरेक्टर ऑफ़ फाइनेंस के रोल के लिए आवेदन कर रहे हैं और आपके पास ढेरों डिग्रियां हैं, मसलन बीएस, एमबीए, एमएसएफ, सीएफए और जेडी. तो क्या करेंगे आप?

(पढ़ें- ऐसे सीईओ से मुलाकात जो बेघर हैं)

माज़्जूकी कहते हैं, "आपको अपने सारे तीर इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं है. बीएस और एमबीए को छोड़कर बाकी डिग्रियों का ज़िक्र नहीं करें."

जरूरत से ज़्यादा डिग्रियों का होना अब सामान्य बात है.

ज़्यादा डिग्रियां हों तो..?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ऑर्गेनाइजेशन फॉर इकॉनामिक कोपरेशन एंड डेवलपमेंट की 2013 में हुए अध्ययन के मुताबिक ब्रिटेन और जापान में हर तीन में एक कर्मचारी के पास योग्यता से कहीं ज़्यादा शिक्षा थी, वहीं अमरीका में प्रत्येक पांच में एक कर्मचारी ज़्यादा शिक्षित था.

माज़्जूकी सलाह देते हैं कि अपनी अन्य किसी डिग्री और योग्यता का ज़िक्र इंटरव्यू के दौरान करना चाहिए और ये बताना चाहिए कि आप इस नौकरी के लिए किस तरह उपयुक्त हैं.

माज़्जूकी के मुताबिक लिंक्डइन, ट्विटर, जिंग जैसी ऑनलाइन नेटवर्किंग साइट्स पर भी अपने प्रोफाइल को अपनी रिज्यूमे के मुताबिक बदलते रहना चाहिए. माज़्जूकी कहते हैं, "आज के दौर में नियोक्ता हर चीज की जांच करते हैं."

(पढें- सॉफ्टवेयर में ज़्यादा कमार्ई या हेयर ड्रेसिंग में)

डलास स्थित नियोक्ता फर्म बाबिच एंड एसोसिएट के अध्यक्ष टॉनी बेशहारा के मुताबिक ओवरक्वालिफ़ायड उम्मीदवारों के लिए सबसे बेहतर ये है कि वे मानव संसाधन विभाग को ज्यादा महत्व नहीं दें.

उन्होंने बताया, "आवेदकों को हायरिंग करने वाले अधिकारियों को प्रभावित करने की जरूरत है, क्योंकि नए लोगों की नियुक्ति के बारे में इनका फ़ैसला सबसे अहम होता है.अगर आप फ़िट ना भी हों और ओवर-क्वालिफ़ायड हों तो भी ये लोग आपके नाम पर विचार कर सकते हैं."

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

बेशहारा के मुताबिक अगर आप एकाउंटेंट की नौकरी चाहते हैं तो फिर आपको एकाउंटिंग मैनेजर और कंट्रोलर को फ़ोन करना चाहिए.

सेल्समैन के लिए आपको सेल्स मैनेजर या फिर सेल्स विभाग के वाइस प्रेसीडेंट के पास अप्रोच करना चाहिए. इंजीनियरों को इंजीनियरिंग मैनेजर के पास कॉल करना चाहिए. बेशहारा के मुताबिक जिस आदमी को लोगों की जरूरत हो, उसके पास अप्रोच करना चाहिए.

कहां करें अप्रोच?

लेकिन अगर मानव संसाधन विभाग के जरिए अप्रोच करना चाहते हैं तो बेशहारा के मुताबिक आपको अपनी सीवी जरुरत के मुताबिक बदलनी चाहिए. बेशहारा कहते हैं, "नहीं तो वे आपको इंटरव्यू के लिए नहीं बुलाएंगी."

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

माज़्जूकी ने बताया, "आपको ये प्रभाव तो डालना ही होगा कि आप जिस नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं, उसके लिए उपयुक्त हैं."

नियोक्ता का फ़ायदा कितना अहम

स्टॉकहॉम स्थित लेखक और एक्जीक्यूटिव करियर कोच शारलट हैगार्ड कहती हैं, "आपको ये बताना होगा कि ये नौकरी आपके जीवन और करियर के लक्ष्य के मुताबिक है और आपको नौकरी देना नियोक्ता के लिए फ़ायदे का सौदा है."

(पढ़ें- स्मार्ट लीडर से कितना होता है नुकसान)

माज़्जूकी ज्यादा अनुभवी उम्मीदवारों को दूसरे क्षेत्र और सेक्टर में नौकरी तलाशने की सलाह देते हैं. वे कहते हैं, "नियोक्ता ज़्यादा अनुभवी लोगों को मौका दे सकते हैं अगर उन्हें इंडस्ट्री के बारे में थोड़ा बहुत पता हो और इतना अनुभव हो कि वे इसे चला सकें."

कैसे पेश आएं आप

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

इंटरव्यू के दौरान आपको नए क्षेत्र के प्रति उत्साह दिखाना होता है. हागार्ड कहते हैं, "आपको ऊर्जा, दिलचस्पी और उत्साह दिखाना होता है. आपको कंपीटिशन के बारे में पता होना चाहिए और दूसरे आवेदकों के मुक़ाबले आपको अपनी स्थिति का अंदाज़ा होना चाहिए."

हागार्ड के मुताबिक ज़्यादा अनुभवी लोगों को अपने कहीं बड़े नेटवर्क, विस्तृत जानकारी और कम समय में ज़िम्मेदारी संभालने की क्षमता जैसे अपने गुणों को अच्छे से पेश करना चाहिए.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें, जो बीबीसी कैपिटल पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार