ओबामा ने नेतान्याहू की कड़ी आलोचना की

बराक ओबामा इमेज कॉपीरइट AP

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ईरान को लेकर इसराइल प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू के भाषण की तीखी आलोचना की है.

अमरीकी कांग्रेस में नेतन्याहू ने चेतावनी दी कि ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर समझौते के लिए हो रही बातचीत ईरान को रोकने की बजाय, एटम बम बनाने का रास्ता खोल सकती है

लेकिन ओबामा ने कहा कि नेतन्याहू ने कोई सार्थक विकल्प नहीं दिया था.

अन्य वरिष्ठ डेमोक्रेट नेताओं और ईरान ने नेतन्याहू के बयान की आलोचना की.

शुरू से ही इसराइल प्रधानमंत्री की यात्रा विवादों से घिरी हुई थी, क्योंकि रिपब्लिकन स्पीकर ने बिना व्हाईट हाउस से सहमति के उन्हें भाषण के लिए बुलाया था.

अमरीकी राष्ट्रपति ने घोषणा की थी कि वो नेतान्याहू से नहीं मिलेंगे. इसराइल में दो सप्ताह में ही आम चुनाव होने वाले हैं.

नेतन्याहू का भाषण

इमेज कॉपीरइट AFP

इसराइली प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने अमरीकी संसद को दिए अपने भाषण में कहा है कि ईरान पूरी दुनिया के लिए ख़तरा है.

नेतन्याहू ने कहा कि ईरान और अमरीका सहित अन्य देशों में हो रहे परमाणु समझौते उसके लिए परमाणु हथियार बनाने का रास्ता खोल देंगे.

'ईरान एक दशक तक परमाणु कार्यक्रम बंद करे'

हालांकि साथ ही उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि उनके इस भाषण को लेकर काफ़ी विवाद हो रहा है लेकिन उनका मकसद अमरीका की आंतरिक राजनीति में हस्तक्षेप करने का नहीं है.

इमेज कॉपीरइट AP

इसराइली प्रधानमंत्री ने कहा, ''ईरान ने हर बार यह साबित किया है कि उस पर भरोसा नहीं किया जा सकता. वो देश दूसरों पर जीत और आतंक के भरोसे राज करना चाहता है.''

उन्होंने कहा कि ईरान हमेशा से उग्र शासन में विश्वास रखता है. उसकी विचारधारा कट्टरपंथी इस्लाम पर टिकी हुई है.

नेतन्याहू की यात्रा पर अमरीका दोफाड़

इमेज कॉपीरइट

वो बोले ''ईरान हमेशा अमरीका का दुश्मन रहेगा.''

साथ ही उन्होंने कहा कि इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ ईरान की लड़ाई का अर्थ यह नहीं है कि वह अमरीका का दोस्त बन गया है.

नेतन्याहू बोले, ''आपके दुश्मन का यह दुश्मन आपका भी दुश्मन है.''

नेतन्याहू के अनुसार, इसका कोई फ़ायदा नहीं है क्योंकि ''ईरान संयुक्त राष्ट्र के निरीक्षकों से लुका छिपी खेलने में माहिर है''.

उन्होंने चिंता जताई, ''यह समझौता ईरान के लिए परमाणु हथियारों का रास्ता बंद नहीं बल्कि खोल देगा.'' उन्होंने दावा किया कि आने वाले पांच सालों में ईरान के पास 100 परमाणु बम होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार