बोको हराम: 'क़ैद से छुड़ाए बच्चे अपना नाम भी भूले'

इमेज कॉपीरइट AP

कैमरून में चरमपंथी संगठन बोको हराम की क़ैद से छुड़ाए गए तकरीबन 80 बच्चे अपना नाम और पता भूल चुके हैं.

इन बच्चों से मिले सहायता मिशन के एक अधिकारी ने ये जानकारी दी है.

अमरीका के नेशनल डेमोक्रेटिक इंस्टीच्यूट के निदेशक क्रिस्टोफर का कहना है कि बोको हराम की क़ैद से छुड़ाए गए इन बच्चों की उम्र 5 से 18 साल के बीच है और ये बच्चे न तो अंग्रेज़ी बोल सकते हैं और न ही फ्रेंच या कोई दूसरी स्थानीय भाषा.

ये बच्चे नवंबर में उत्तरी कैमरून के एक शिविर में मिले थे.

जिहादी विचारधारा

क्रिस्टोफ़र का कहना है कि बोको हराम की क़ैद में लंबा समय बिताने और लगातार जिहादी विचारधारा सिखाए जाने से बच्चे अपनी पहचान भूल गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

क्रिस्टोफर ने बीबीसी को बताया कि वो बच्चों की मदद करने वाली एक संस्था के अनाथालय में बच्चों से मिले थे.

क्रिस्टोफर ने कहा, "काफी दिनों से माता-पिता का साथ और संपर्क छूट चुका है. ये अपना नाम तक नहीं बता पा रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट AFP

नाइजीरियाई मूल के चरमपंथी संगठन बोको हराम के लड़ाकों ने कैमरून में अपना चौतरफा अभियान छेड़ रखा है. वे उत्तर-पूर्वी नाइजीरिया में इस्लामी शासन की स्थापना करना चाहते हैं.

बोको हराम ने इस इलाके में कई गांवों और शहरों पर क़ब्ज़ा कर लिया है. हाल ही में उसने दूसरे चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट का साथ देने का वादा भी किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार