चर्च के पास आत्मघाती हमले में 14 की मौत

लाहौर बम धमाके इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान के शहर लाहौर में धमाके हुए हैं जिनमें कम से कम 10 लोग मारे गए हैं.

सरकारी अस्पताल के प्रमुख सईद सुबन में मीडिया से कहा कि मरने वालों की संख्या अब 14 हो गई हैंं.

स्थानीय मीडिया के मुताबिक़ ईसाई बहुल योहानाबाद में हुए इन धमाकों में कम से कम 58 लोग घायल हुए हैं. जिनमें से 40 गंभीर हैं.

यह धमाके उस समय हुए जब ईसाई समुदाय के लोग रविवार की प्रार्थना में हिस्सा लेने गिरजाघर आए थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

हमले दो भीड़ भरे गिरजाघरों में हुए.

ज़िम्मेदारी

पाकिस्तान तालिबान से जुड़े एक गुट जमातुल एहरार ने इन हमलों की ज़िम्मेदारी ली है.

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक़ ये फ़िदायीन हमले थे, लेकिन पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है.

गुस्साई भीड़

इमेज कॉपीरइट EPA

स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के अनुसार घटनास्थल पर बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए और उन्होंने धमाकों में शामिल होने के संदेह में दो व्यक्तियों की जमकर धुनाई की.

धमाकों के बाद ईसाई अल्पसंख्यकों ने घटना के विरोध में प्रदर्शन किया. ख़बर है कि गुस्साई भीड़ ने दो लोगों को पीट-पीट कर मार डाला है.

पाकिस्तान में ईसाई समुदाय को पहले भी कई बार चरमपंथी हमलों का सामना करना पड़ा है.

इमेज कॉपीरइट AP

2013 में पेशावर में एक गिरजाघर पर हुए हमले में कम से कम 80 लोग मारे गए थे.

पाकिस्तान में कुल आबादी का दो फ़ीसदी से भी कम ईसाई हैं.

प्रतिक्रिया

तहरीक-ए-इंसाफ़ के अध्यक्ष इमरान ख़ान ने ट्विटर पर इस हमले की निंदा की है.

उन्होंने ट्वीट किया "मैं लाहौर में गिरजाघर के बाहर हुए आतंकी हमलों की निंदा करता हूं. यह शर्मनाक है कि गिरजाघर को किसी भी प्रकार का सरकारी संरक्षण नहीं दिया गया था."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)