इसराइल में वोटिंग जारी, कांटे की टक्कर

  • 17 मार्च 2015
बिन्यामिन नेतन्याहू, नेता, लिकुड पार्टी इमेज कॉपीरइट AFP

इसराइल में आम चुनाव के लिए वोट डाले जा रहे हैं जिसमें मुख्य मुक़ाबला प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतान्याहू की लिकुड पार्टी और वामपंथी ज़ियोनिस्ट यूनियन के बीच है.

नेतन्याहू फिर चुनाव जीत कर चौथी बार प्रधानमंत्री पद की रेस में हैं हालांकि सर्वेक्षणों में उनकी पार्टी को विपक्ष से कुछ पीछे बताया जा रहा है.

आम चुनाव के लिए कुल 5,881,696 मतदाता हैं जो 10,119 मतदान केंद्रों पर वोट डाल सकते हैं.

'सुरक्षा का हौव्वा'

इमेज कॉपीरइट Reuters

ज़ियोनिस्ट यूनियन ने सरकार पर घरेलू मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए सुरक्षा का हव्वा खड़ा करने का आरोप लगाया है.

इत्ज़ाक हरज़ोग और त्सिपी लिवनी इस पार्टी के बड़े नेता हैं, जिनसे नेतन्याहू को चुनौती मिल रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसराइल की 20वीं क्नेसेट (संसद) के 120 सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं. कुल 25 दल चुनाव में भाग ले रहे हैं, जिनमें लिकुड और ज़ियोनिस्ट ही प्रमुख दावेदार हैं.

अल्पसंख्यक अरबों की पार्टी ‘कुलानू’ है, जिसके नेता मोशे कालून पहले लिकुड में ही थे. ज्यूइश होम की अगुवाई नफ़्ताली बेनेट कर रहे हैं.

बहुमत मुश्किल

इमेज कॉपीरइट Reuters

पश्चिमी तट के बाशिंदे यहूदियों का प्रतिनिधित्व करने वाले दल यश आतीद के नेता याइर लातीद हैं. संसद में जगह पाने के लिए किसी भी दल को कम से कम 3.5 फ़ीसदी वोट हासिल करना होगा.

इसराइल के इतिहास में अब तक किसी दल को कभी भी अकेले बहुमत हासिल नहीं हुआ है. चुनाव के बाद राष्ट्रपति यह देखते हैं किस दल की अगुवाई में बहुमत की सरकार बन सकती है. सरकार को छह हफ़्ते के अंदर सदन में बहुमत साबित करना होता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार