जलवायु परिवर्तन 'चीन के लिए बड़ा ख़तरा'

चीन में प्रदूषण इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन के मौसम वैज्ञानिक जंग गुओगांग ने चेतावनी देते हुए कहा है कि देश पर जलवायु परिवर्तन का 'गंभीर प्रभाव' पड़ सकता है. इससे फ़सल की पैदावार घट सकती है और पर्यावरण को नुक़सान पहुंच सकता है.

जंग गुओगांग ने सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ से हुई बातचीत में जलवायु परिवर्तन को ढांचागत सुविधाओं की बड़ी परियोजनाओं के लिए 'बड़ा ख़तरा' बताया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने कहा कि चीन का तापमान औसत वैश्विक तापमान से कहीं ज़्यादा तेजी से बढ़ रहा है.

सबसे प्रदूषित देश

चीन को दुनिया का सबसे प्रदूषित देश माना जाता है. जलवायु परिवर्तन का मुख्य कारण गैस का उत्सर्जन है जो साल 2030 में अपने चरम पर होगा.

पर स्वयं चीन ने गैस उत्सर्जन को रोकने के लिए कोई लक्ष्य अब तक तय नहीं किया है. ख़ासतौर से कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन रोकने के लिए उसका कोई लक्ष्य नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन के मौसम विज्ञान विभाग के प्रमुख जंग का कहना है कि ''गर्म तापमान से देश में जलवायु परिवर्तन और प्राकृितक आपदा का ख़तरा बढ़ गया है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार