जीवनसाथी की मौत के लिए तैयार हैं आप?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

साढ़े सात साल पहले क्रिस्टेन ब्राउन के पति की दिल का दौरा पड़ने से महज़ 30 साल की उम्र में मौत हो गई.

ब्राउन कहती हैं, "दिल के दौरे से ठीक पहले उसे स्वास्थ्य का प्रमाण पत्र मिला था. वो कॉलेज के दिनों में एथलीट भी था. तब हमारी महज़ 10 महीने की बेटी थी."

आज ब्राउन 38 साल की हो चुकी हैं और अमरीका के मिनेसोटा में रहती हैं और 'द बेस्ट वर्स्ट थिंग' नाम की किताब लिख चुकी हैं.

लेकिन यहां तक पहुंचने के लिए ब्राउन को काफी संघर्षों से गुज़रना पड़ा.

(पढ़ें- हाथ- पांव नहीं, फिर भी सफलता के शिखर पर)

वे कहती हैं, "कई मुश्किलें थीं, मैं उसका एकाउंट कैसे एक्सिस करती? अपने बच्चे के लिए सामाजिक सुरक्षा हासिल करने के लिए, मृत्यु प्रमाण पत्र की ज़रूरत होती है, उसके लिए आवेदन करने के बारे में मालूम नहीं था. बीमा लेने के लिए क्या करना होता है, ये मालूम नहीं था. पहले साल तो मैं काफी डर गई थी. हमारे घर में दो लोगों की आमदनी आ रही थी, जो अचानक से एक ही रह गई थी."

अप्रत्याशित नहीं है मौत

इन समस्याओं के बीच पति का नहीं होना दिल तोड़ने वाला था. लेकिन ये मुश्किल केवल ब्राउन की नहीं थी.

अमरीकी सेंशस ब्यूरो के मुताबिक हर साल आठ लाख महिलाएं विधवा हो जाती है.

ब्रिटेन के राष्ट्रीय महिला आयोग के मुताबिक हर दिन करीब 500 महिलाएं विधवा हो जाती हैं.

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक चीन और भारत में भी विधवाओं की संख्या लगातार बढ़ रही है.

इमेज कॉपीरइट PA

चीन में करीब 4.3 करोड़ महिलाएं विधवा हैं जबकि भारत में ये आंकड़ा 4.24 करोड़ का है.

'विडो वियर सटिलेटोस' की अमरीकी लेखिका कारोल ब्रॉडी फ्लीट कहती हैं, "मृत्यु अप्रत्याशित नहीं है. बस हम ये नहीं जानते हैं कि मृत्यु का दिन क्या होगा? यह हम सब लोगों को छूकर गुज़रता है. इसलिए हमें इसके लिए तैयार रहना चाहिए."

फ्लीट के पहले पति की मौत 2000 में हो गई थी, दो साल तक एएलएस (एमोट्रोपिक लेटरेल स्केलेरोसिस) नाम की बीमारी से लड़ने के बाद उनकी मौत हुई थी.

तो बड़ा सवाल यही है कि ऐसी अपात स्थिति का सामना कोई कैसे करे? अगर इन बातों का ख्याल रखा जाए तो मुश्किल का सामना किया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

मौत साथ में क्या ले जाएगी- अपने पति या पत्नी की मौत का सदमा बर्दाश्त करने के लिए बड़ी सहनशक्ति की ज़रूरत होती है. आपको चीजों को संभालने की क्षमता भी विकसित करनी होगी. अचानक से इन सबके बीच आपको ये ध्यान रखना होगा कि अंतिम संस्कार के लिए ज़रूरी पैसों का इंतजाम भी करना है. ये रकम अलग अलग देशों में अलग हो सकती है. लेकिन कितनी रकम होगी, इसका अंदाज़ा आपको पहले से होना चाहिए.

तैयारी के लिए कितना वक्त- जीवन का सबसे ख़राब हादसा आपके साथ हो, उससे पहले आपको एक दिन आपस में बैठकर ये सुनिश्चित करना चाहिए कि सभी चीजें व्यवस्थित रहें. पति-पत्नी को अपने जायदाद संबंधित दस्तावेजों की जानकारी बांटनी चाहिए.

आपको अपने सभी खाते की सूची तैयार करनी चाहिए, उनके यूज़र नेम और पासवर्ड की जानकारी भी एक दूसरे को देनी चाहिए.

सलाहकार ये बताते हैं कि अंतिम संस्कार के लिए खर्च को अलग रखना चाहिए, हालांकि कुछ सलाहकार प्रीपेड अंतिम संस्कार की सलाह नहीं देते. क्योंकि उसके अपने ख़तरे हैं.

(पढ़ें- तेज तर्रार सीईओ क्या अपनाते हैं?)

जॉर्जिया स्थित वेल्थ केयर कैपिटल मैनेजमेंट के वित्तीय योजनाकार रुस थॉर्नटन कहते हैं, "प्रीपेड बुकिंग का अनुभव अच्छा नहीं होता. इसे प्लान करने के दूसरे बेहतर रास्ते मौजूद हैं."

कितने तैयार हैं आप?

अपनी योजना को आगे बढ़ाने के लिए थॉर्नटन की सलाह एक सवाल ही है. वे कहते हैं, "क्या होगा जब आपमें किसी एक की मौत अगले ही दिन हो जाए? क्या होगा? क्या आप जानते हैं कि आपके एकाउंट कहां कहां है? ये एक महत्वपूर्ण मानसिक अभ्यास है."

अपने पार्टनर के निधन के बाद उसकी संपत्ति में हिस्से के लिए आपको छह से 12 महीने का वक्त लग सकता है.

अगर चीजें उलझी हुईं हों तो दो साल भी लग सकते हैं. अगर संयुक्त परिवार का मसला हो तो और भी ज्यादा वक्त लग सकता है.

अभी कीजिए- जीवनसाथी की मौत होने की स्थिति में फ़ौरन हर किसी संबंधित को इसकी सूचना दे दीजिए.

बैंक, निवेश फर्म, बीमा कंपनी, मोटर वैकिल लाइसेंस विभाग, क्रेडिट कार्ड, यूटिलिटी कंपनी, सेवानिवृत योजना और सरकारी लाभ के दफ्तरों को सूचित कर दें.

(पढ़ें- नौकरी चाहिए तो रिज़्यूमे में ये ना लिखें)

ऑस्ट्रेलिया के साउथपोर्ट में एटलस वेल्थ मैनेजमेंट के कार्यकारी निदेशक ब्रेट इवांस ने बताया, "ज्यादातर लोग मरने वाले के वित्तीय संस्थान को सूचना देना भूल जाते हैं और उनका बैंक एकाउंट इस्तेमाल करते हैं, उससे कानूनी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं."

एज यूके के मुताबिक ब्रिटेन में आपको अपने साथी की मौत की सूचना रजिस्ट्रार को देनी होती है. ऑस्ट्रेलिया में, आपको मानव संसाधन विभाग में एडवाइस ऑफ़ डेथ फॉर्म भरना होता है.

क्या करें, क्या ना करें?

अगर आपके साथी का सोशल मीडिया खाता हो या फिर किसी दूसरी सोशल साइट पर उनकी मौजूदगी हो, तो आपको उनमें जो सूचनाएं रखनी हों उसे डाउनलोड कर लें और बाकी को डीलिट कर दें और निष्क्रिय कर दें. सभी ऑनलाइन खाते को लेकर इससे संबंधित निर्देश उस साइट पर मौजूद हैं.

मृत्यु प्रमाण पत्र की कई प्रतियां तैयार कीजिए. आपको अपने जीवनसाथी के प्रत्येक खाते को बंद करने की जरूरत है.

क्रिस्टेन ब्राउन इसको लेकर अचरज में पड़ गई थीं. उन्हें अपनी पति की मौत के बाद 20 खातों को बंद करना पड़ा.

ब्राउन कहती हैं, "आपको कई प्रतियों की ज़रूरत होती है."

(पढ़ें- स्मार्ट टीम लीडर से कितना नुकसान)

अगर बच्चे को विदेश ले जाना हो तब भी आपको अपने जीवनसाथी के मृत्यु प्रमाण पत्र की तब भी जरूरत होती है

इमेज कॉपीरइट PA

ब्राउन कहती हैं, "सीमा पार करते वक्त मुझसे पति का मृत्यु प्रमाण पत्र मांगा गया, वे ये जानना चाहते थे कि कहीं मैं अपनी बेटी को पति की जानकारी के बिना दूसरे देश तो नही स्थानांतरित कर रही थी, हर बार ऐसा हो ज़रूरी नहीं, लेकिन तैयारी तो रखनी चाहिए."

जायदाद में हिस्सेदारी की प्रक्रिया को भी शुरू कीजिए.

अगर आपके जीवन साथी ने कोई वसीयत छोड़ी है तो अपने वकील को जानकारी दीजिए.

आपको अगले कदम की योजना भी तैयार रखनी होती है. अगर कोई वसीयत नहीं है तो फिर इस देश विशेष के कानून के मुताबिक जायदाद का हिस्सा होगा.

अमरीका के कई राज्यों में तो जीवनसाथी की संपत्ति पर अपने आपका हक हो जाता है लेकिन न्यूज़ीलैंड में संपत्ति का बंटवारा जीवनसाथी और बच्चों में हो जाता है.

संपत्ति में हिस्सेदारी

अगर आपके जीवनसाथी के घर और संपत्ति का मसला स्पष्ट नहीं है, पारिवारिक मसला है तो जीवनसाथी की मौत से पहले उससे पूरी तरह से चीजों को समझ लीजिए. जीवनसाथी की मौत के बाद आप घर जाकर अंदर की संपत्ति की फोटो या वीडियो ज़रूर ले लीजिए ताकि आपको संपत्ति में उचित हिस्सेदारी मिल सके.

(पढ़ें- जब कंपनियों के सीईओ मिलते हैं तो क्या बातें करते हैं)

इमेज कॉपीरइट PA

चेकलिस्ट फॉर फैमिली सरवाइवर्स नामक पुस्तक के लेखक सैली हर्मे कहते हैं, "जिन परिवार के लोगों में आपस में खूब बातचीत होती है उनमें भी संपत्ति के बंटवारे में विवाद होता है. वीडियो रिप्रजेंटेशन सबसे अच्छा विकल्प है."

पेशेवर से सलाह लीजिए. वित्तीय लेन देन में दस्तावेजी काम की जरूरत होती है, टैक्स संबंधी मुश्किलें होती हैं लिहाजा विवादों वाली जायदाद में हिस्सेदारी के ले वित्तीय सलाहकार की मदद लेनी चाहिए.

हर्मे कहते हैं, "आप अपनी वित्तीय योजना का फिर से आकलन करें, हो सकता है कि आपकी ज़रूरत अलग हो. हो सकता है कि सामाजिक सुरक्षा की योजनाओं का लाभ पहले की तरह नहीं मिले."

इसलिए अपनी आमदनी को सावधानी से देखिए कि ये कब तक चलेगी. उदाहरण के लिए ब्रिटेन में आपको मैरिड कपल एलाउंस वित्तीय साल के आखिर तक ही मिलेगा. उसके बाद नहीं.

(पढ़ें- इन उपकरणों के बिना नहीं चलेगा जीवन)

इसे बाद में करें- आपको ऐसी परिस्थिति में मुफ्त की कई सलाहें मिलेंगी, दोस्तों से भी और परिवार के सदस्यों से भी.

हर्मे के मुताबिक, "इन लोगों की सलाह होगी कि आपको इस स्टॉक में निवेश करना चाहिए या फिर तुम्हें कल घर बेचने की जरूरत होगी. आप इन सलाहों पर अमल करने से पहले वक्त लें और अच्छी सलाह भी."

इमेज कॉपीरइट AFP

बड़े फैसले लेने के लिए समय लेना चाहिए. थॉर्नटन कहते हैं, "निवेश के पैसों के इस्तेमाल के लिए जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए. थोड़ा वक्त बीतने दीजिए. कुछ सप्ताह या फिर कुछ महीने." थॉर्नटन के मुताबिक आपकी परिस्थितियां बदलेंगी. आपकी उम्र और आपको बच्चों की उम्र पर ये निर्भर होगा.

स्मार्ट तरीके से करें- कुछ लोग मूर्खतापूर्ण सलाह भी देंगे. फ्लीट कहती हैं, "आपकी जान पहचान का कोई ना कोई एक आदमी कुछ ना कुछ असंवेदनशील बातें जरूर करेगा. मेरे पति के अंतिम संस्कार के दौरान एक ने मुझसे कहा कि तुम सबकुछ भूल जाओगी जब तुम्हें नया ब्वॉय फ्रेंड मिल जाएगा. मैं आज तक इससे उबर नहीं सकी."

(अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें, जो बीबीसी कैपिटल पर उपलब्ध है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार