नाज़ी कब्ज़े के लिए ग्रीस ने मांगा मुआवज़ा

इमेज कॉपीरइट AFP

ग्रीस की सरकार ने दूसरे विश्व युद्ध के दौरान नाजी कब्ज़े की क्षतिपूर्ति के लिए जर्मनी से 279 अरब यूरो यानी 303 अरब डॉलर की मांग की है.

पहली बार ग्रीस ने आधिकारिक तौर पर आकलन करके ये बताया है कि जर्मनी पर वो कितनी रकम का दावा करता है. वर्ष 1940 के दशक में नाज़ी कब्ज़े के दौरान हुई लूटपाट और अत्याचार के एवज़ में यह रकम मांगी गई है.

हालांकि जर्मनी की सरकार का कहना है कि ये मुद्दा सालों पहले ही क़ानूनी तौर पर हल हो चुका है.

दावा

ग्रीस की वामपंथी कट्टरपंथी मानी जाने वाली सीरिजा सरकार ने ये दावा ऐसे समय में किया है जब वो समयसीमा के अंदर क़र्ज़ चुकाने से जूझ रही है. ये मुद्दा देश के प्रधानमंत्री एलेक्सिस सिप्रास ने जर्मनी की चांसलर एंगेला मर्केल के सामने पिछले महीने ही उठाया था.

ग्रीस के उप वित्त मंत्री दिमित्रिस मरदास ने ग्रीस के कर्ज़ संकट की ज़िम्मेदारी तय करने की जांच कर रही संसदीय समिति को बताया, ''हमारी गणना के मुताबिक जर्मनी को क्षतिपूर्ति के लिए 278.7 अरब यूरो की राशि देनी चाहिए.''

उनका कहना था कि क्षतिपूर्ति का आकलन देश के लेखा विभाग ने किया है.

इमेज कॉपीरइट
Image caption ग्रीस का कहना है कि उसके लेखा जोखा विभान ने इस राशि का आंकलन किया है.

जर्मनी ने 11.5 करोड़ डॉयचेमार्क ग्रीस को 1960 में मुआवज़े के तौर पर दिए थे जो ग्रीस की मांग का एक हिस्सा है.

साथ ही ग्रीस का कहना था कि इसमें ढांचागत सुविधाओं की क्षति, युद्ध अपराधों और ज़बरदस्ती दिए कर्ज़ की वापसी की रकम शामिल नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)