पाकिस्तानियों ने दी मसर्रत को सलामी

  • 17 अप्रैल 2015
इमेज कॉपीरइट Thinkstock

'मसर्रत आलम हीरो है, वो बब्बर शेर है, वो बहादुर है.'

कश्मीरी अलगाववादी नेता मसर्रत आलम की ग़िरफ़्तारी के बाद पाकिस्तानी, सोशल मीडिया पर उन्हें कुछ इसी तरह की उपाधि से नवाज़ रहे हैं.

(मसर्रत आलम ग़िरफ़्तार)

भारत प्रशासित कश्मीर में एक पाकिस्तान समर्थित रैली में हिस्सा लेने और पाकिस्तान का झंडा फ़हराने के बाद मसर्रत आलम को ग़िरफ़्तार कर लिया गया है.

उसके बाद पाकिस्तान में उनके समर्थन में और भारत में उनके विरोध में सोशल मीडिया पर कमेंट हो रहे हैं.

'सलाम मसर्रत'

इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तान में ट्विटर पर #PakSalutesMusaratAlam टॉप ट्रेंडिग बना हुआ है और इसी हैशटैग पर भारत और पाकिस्तान से लोग बढ़ चढ़कर टिप्पणियां और गाली गलौच कर रहे हैं.

(सरकार बचाई, मसर्रत नहीं)

जहां पाकिस्तान में उन्हें हीरो बताया जा रहा है तो प्रतिक्रिया के तौर पर भारतीय यूज़र पाकिस्तान को आतंकियों का रहनुमा बता रहे हैं.

हनीफ़ मंज़ूर डार नाम के एक पाकिस्तानी ट्विटर यूज़र ने लिखा, “लव यू मसर्रत आलम सर.”

साथ ही उन्होंने भारत के ख़िलाफ़ कुछ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया है.

ज़ारा गुल ने लिखा, "अब भारतियों को अहसास होगा कि कश्मीर, पाकिस्तान का हिस्सा है."

मसर्रत को गालियां

इमेज कॉपीरइट EPA

पवन दुर्रानी और मानिक नाम के भारतीय यूज़र्स ने लिखा, "पाकिस्तान सिर्फ़ ओसामा बिन लादेन, लखवी और मसर्रत जैसे आतंकियों को ही सलाम कर सकता है."

(नए गिलानी बनना चाहते हैं मसर्रत)

सुमित जायसवाल ने लिखा, "जब कश्मीर में बाढ़ आई थी तब ये अलगाववादी नेता कहां थे. तब ये क्यों काम नहीं आए."

इस हैशटैग के अंतर्गत काफ़ी अभद्र भाषा का भी इस्तेमाल किया गया.

राज ने लिखा, "पाकिस्तान में कई मुसलमानों का ही खून बहाया जा रहा है. हम इतने बेवकूफ़ नहीं है."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)