प्रवासी तस्करों के साथ युद्ध जैसी स्थिति : इटली

इमेज कॉपीरइट AP

इटली ने कहा है कि वो उन लोगों के साथ एक तरह की युद्ध की स्थिति में है जो प्रवासियों की तस्करी करते हैं.

इटली ने यूरोपीय संघ से अपील की है कि वो उचित कदम उठाए ताकि भूमध्यसागर में लगातार हो रही लोगों की मौतों को रोका जा सके.

प्रधानमंत्री रेंज़ी ने गुरुवार को इस मसले को लेकर होने वाले यूरोपीय संघ के सम्मेलन से पहले बयान दिया है.

वहीं इटली के रक्षा मंत्री रॉबर्टा पिनोची ने इटैलियन टीवी से कहा है कि यूरोपीय संघ को सैन्य हस्तक्षेप के बारे में सोचना चाहिए.

पिछले रविवार को लीबिया में समुद्र में 800 लोग डूब कर मर गए थे. इस साल कुल 1750 लोगों की मौत हो चुकी है.

'30 गुना ज़्यादा मौतें'

इमेज कॉपीरइट Reuters

मध्य पूर्व और अफ़्रीका में युद्ध और ग़रीबी से भागकर यूरोप आने की कोशिश करने वालों की संख्या में पिछले कुछ महीनों में बढ़ोतरी हुई है. नावों में क्षमता से ज़्यादा लोगों का होना और असुरक्षित यात्रा में बड़ी संख्या में लोग डूबकर मारे गए हैं.

अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन ने कहा है कि 2015 में पिछले साल इसी समय की तुलना में 30 गुना ज़्यादा मौतें हुई हैं और ये संख्या तीस हज़ार तक जा सकती है.

इटली के कोस्टगार्ड बुधवार को 500 लोगों को सुरक्षित लेकर आए जिन्हें विभन्ना नावों से बचाया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)