जर्मन बैंक पर 15800 करोड़ का जुर्माना

  • 24 अप्रैल 2015
इमेज कॉपीरइट REUTERS

जर्मनी के सबसे बड़े बैंक डॉएच्च बैंक पर ऋण दर में हेराफेरी करने के लिए ढाई अरब डॉलर या 15800 करोड़ रुपसों के बराबर का जुर्माना लगाया गया है.

बैंक को दो अरब जुर्माना अमरीका में बैंकों के काम काज पर नज़र रखनेवाली संस्था को देना है. बाक़ी का जुर्माना मामले में ब्रिटेन की तरफ़ से लगाया गया है.

ये जुर्माना अब तक का सबसे अधिक है.

जांचकर्ताओं ने कहा है कि जांच के दौरान बैंक ने उन्हें धोखे में रखने की कोशिश की.

बैंक ने कहा है कि उसे इस बात का बहुत खेद है.

कब और कैसे

इमेज कॉपीरइट Getty

ये घोटाला साल 2005 से 2008 के दौरान हुआ और इसका केंद्र मुख्यत: लंदन, फ़्रैकफर्ट, टोक्यो और न्यूयार्क थे.

बैंक ने इस मामले में लाइबर और इ्यूरोबोर को प्रभावित किया था. ये दोनों ब्याज दर को तय करने के मुख्य आधार होते हैं.

तीन साल पहले स्विस बैंक यूबीएस पर ढेढ अरब डॉलर और ब्रितानी बाक्रले 45 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया गया था.

चंद सालों पहले अमरीका और यूरोप के देशों में जो मंदी आई थी उसमें भी बैंको का बहुत बड़ा हाथ बताया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार