'भारत चिंतित नहीं है चीन-पाक दोस्ती से'

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान में भारत के राजदूत टीसीए राघवन ने कहा है कि 46 अरब डॉलर के पाकिस्तान-चीन आर्थिक कॉरीडर को लेकर भारत चिंतित नहीं है क्योंकि एक बेहतर अर्थव्यवस्था वाला पाकिस्तान क्षेत्र में स्थिरता लाएगा.

भारतीय समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ टीसीए राघवन ने कहा, “एक मज़बूत अर्थव्यवस्था वाला पाकिस्तान क्षेत्र में स्थिरता बहाल करने में मददगार होगा.“

भारतीय राजदूत ने ये बात पेशावर में ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह चैंबर ऑफ़ कॉर्मस एंड इंडस्ट्री के एक प्रोग्राम में कही.

'ग़लतफ़हमियां हों दूर .. '

टीसीए राघवन ने कहा, “ज़रूरत है कि पाकिस्तान और भारत के बीच से ग़लतफ़हमियों को दूर किया जाए ताकि भरोसा का माहौल क़ायम हो सके.“

दक्षिणी पश्चिमी पाकिस्तान के ग्वादर और चीन के सदूर पश्चिमी क्षेत्र के बीच बन रहे तीन हज़ार किलोमीटर की सड़कों, रेलवे लाइनों, ऊर्जा स्कीमों और पाइपलाइन का एक आर्थिक कॉरीडर तैयार हो रहा है.

इसपर पाकिस्तान के और चीन के बीच संधि चीन के राष्ट्रपति शि जिनपिंग की यात्रा के दौरान हुई है.

भारत में कुछ तबक़ों में इस बात को लेकर चिंता जताई जा रही है कि चीन और पाकिस्तान के गहरे होते रिश्तों से भारत को नुक़सान होगा.

रक्षा से जुड़े लोग इसे चीन के ज़रिये भारत को घेरने की कोशिश के तौर पर देख रहे हैं.

चीन पहले से ही श्रीलंका के क़रीब है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार