तस्वीरों में- भूकंप के 24 घंटे बाद नेपाल

  • 26 अप्रैल 2015
नेपाल इमेज कॉपीरइट Other

नेपाल में शनिवार सुबह आए भूकंप के बाद यहां मरने वालों का आंकड़ा 1800 पार कर चुका है. यहां सड़कें, इमारतें और घरों के टूटने की ख़बर है जिसका मलबे में अभी कई और लोगों के दबे होने की आशंका है.

इमेज कॉपीरइट AFP

रिक्टर स्केल पर 7.8 मापे गए इस भूकंप के बाद नेपाल का अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बंद कर दिया गया था. रविवार को यह यात्रियों के लिए खोल दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इस भूकंप से राजधानी काठमांडू समेत नेपाल के कई इलाक़ों में भीषण तबाही हुई है. नेपाल सरकार का कहना है कि मृतकों की संख्या में तेज़ी से इज़ाफ़ा हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

शनिवार भूकंप के बाद सड़कों पर बड़ी-बड़ी दरारें आ गई हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

पाटन दरबार चौक इलाके में कई इमारतें गिर चुकी हैं. इस चित्र में मंदिर का मलबा देखा जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट Other

भूकंप ने नौ मंज़िला धरहरा पर्यटक स्थल को भी छोड़ा इसके मलबे के नीचे कई लोगों के अभी भी दबे होने की आशंका जताई जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Other

घरों और दुकानों के मलबे से शवों को खोजा जाना जारी है.

इमेज कॉपीरइट Other

रविवार को मन की बात में भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने इसे 'भयंकर' आपदा कहा है. उन्होंने कहा कि भारत इस आपदा में नेपालवासियों के साथ है.

इमेज कॉपीरइट AFP

मोदी ने कहा है कि नेपाल में राहत कार्यों के बाद रीलीफ़ और पुनर्वास का काम बाकी है, और यह का अभी 'लंबा चलेगा'.

इमेज कॉपीरइट Other

इस चित्र में एक पर्यटक जिस मलबे के उपर खड़ी हैं वह शनिवार रात तक इनका होटल था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत, अमरीका, चीन, पाकिस्तान और यूरोपीय संघ इस आपदा के वक़्त नेपाल की मदद कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

शनिवार के भूकंप को नेपाल में आए पिछले 80 साल में सबसे विनाशकारी भूकंप बताया जा रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार