जासूसी के आरोप में 15 लोगों को गोली मारी गई

  • 29 अप्रैल 2015
किम जोंग उन इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर कोरिया में इस साल 15 लोगों को मौत की सज़ा दी गई है.

दक्षिण कोरिया के ख़ुफ़िया विभाग के मुताबिक़ उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन ने इन सभी लोगों को मारने का आदेश दिया था.

माना जा रहा है कि इसमें कई उच्च अधिकारी भी शामिल हैं.

बुधवार को हुई एक संसदीय बैठक के दौरान दक्षिण कोरिया की ख़ुफ़िया एजेंसी ने कहा कि जासूसी के आरोप में इन लोगों को गोली मार दी गई.

मारे जाने वालों में दो उपमंत्री भी थे जिन्होंने किम जोंग उन की नीतियों की आलोचना की थी. दक्षिण कोरिया के अनुसार इसमें एक ऑर्केस्ट्रा के सदस्य भी शामिल थे.

आलोचकों को सज़ा

2013 में किम ने अपने शक्तिशाली चाचा जोंग-सोंग को धोखे के आरोप में मौत की सज़ा दी थी. साथ ही उनके नज़दीकी अफ़सरों को भी मौत की सज़ा दे दी गई थी.

साल 2011 में जोंग-सोंग को किम के सलाहकार की तरह देखा जाता था. इस दौरान देश की सत्ता किम के पिता किम जोंग इल के हाथों में थी और इसमें कई परिवर्तन हो रहे थे.

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

योनहप समाचार एजेंसी के अनुसार दक्षिण कोरियाई राजनैतिकों को बताया गया है कि मारे जाने वालों में वन मंत्री भी थे, जिन्होंने उत्तर कोरिया की वानिकी योजना की आलेचना की थी.

उत्तर कोरिया के उनहासू ऑर्केस्ट्रा के चार लोगों को भी मार्च के महीने में मारा दिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार