मलाला के हमलावरों को आजीवन क़ैद

मलाला यूसुफ़ज़ई इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान की एक अदालत ने मलाला यूसुफ़ज़ई पर हुए हमले के मामले में 10 लोगों को आजीवन क़ैद की सज़ा सुनाई है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ ये फ़ैसला ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह की एक अदालत ने सुनाया.

अधिकारियों का कहना है कि ये सभी 10 लोग तहरीके तालिबान पाकिस्तान के सदस्य हैं.

वर्ष 2012 में मलाला यूसुफ़ज़ई को गोली मारी गई थी, उस समय वे 15 साल की थी.

स्वात घाटी में एक बस से स्कूल जाते समय उन पर हमला किया गया था.

बच्चों के अधिकार के लिए अभियान चलाने वाली मलाला को वर्ष 2014 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)