भूकंप के 5 दिन बाद ज़िंदा निकला किशोर

  • 30 अप्रैल 2015
इमेज कॉपीरइट Reuters

नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप के पाँच दिन बाद बड़े आश्चर्यजनक ढंग से राजधानी काठमांडू में एक किशोर को ज़िंदा बचा लिया गया है.

बताया जा रहा है कि मलबे के भीतर सांस लेने की गुंजाइश बन जाने के कारण उसकी जान बच गई.

जब किशोर दिन के उजाले में आंखें झपकाता बाहर आया तो उसे देखकर लोग खुशी से चिल्ला पड़े. इसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया.

अधिकारियों के अनुसार भूकंप के कारण नेपाल में अब तक 5500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 11000 लोग घायल हुए हैं.

भूकंप के केंद्र के आस पास बसे कई गांव के लोग अभी भी पानी, भोजन और आवास की कमी से जूझ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि इनमें से कई गांवों तक पहुंचने में अभी पांच दिन और लगेगें.

राहत और बचाव कार्य से नाखुश

इधर राहत और बचाव कार्य की धीमी गति के कारण नेपाल के ग्रामीण इलाकों में असंतोष बढ़ रहा है.

इमेज कॉपीरइट

भूकंप से बुरी तरह प्रभावित हुए कई गांवों में तो अभी तक कोई सहायता और राहत सामग्री नहीं पहुंची है.

कुछ इलाकों में लोगों ने बीबीसी को बताया कि वे बेहद नाराज़ हैं क्योंकि अब तक ना तो किसी तरह का खाना ना ही दवाई उन तक पहुंची है.

संयुक्त राष्ट्र ने अगले तीन महीनों में नेपाल को 415 करोड़ डॉलर की मदद की पेशकश की है.

इमेज कॉपीरइट Getty

राजधानी काठमांडू में स्थित देश के एकमात्र अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा में काफी भीड़भाड़ और अफरातफरी का माहौल है.

मुश्किल ये है कि यहां हवाईजहाज़ के उतरने और उड़ान भरने के लिए केवल एक ही रनवे उपलब्ध है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार