जब हम ड्रोन की नज़र से बच न पाएंगे..

ज़मीन से कुछ मीटर ऊपर, एक ड्रोन लंदन की गलियों से ग्लाइड करता गुजरता है. वह जैसे ही एक व्यक्ति को देखता है, संकेत मिलने पर उसके चेहरे को स्कैन करता है और फिर फुर्ती से दूर क्लाउड में रखे डाटाबेस में आपराधिक रिकॉर्ड की जांच करता है.

एक अन्य जगह पर एक ट्रैफ़िक ड्रोन कारों और वैन्स पर अपनी खुफ़िया नज़रें टिकाए हुए है. वह वाहनों के गैस उत्सर्जन की जांच करता है, और जानने की कोशिश करता है कि उनमें से किसी ड्राइवर पर कोई गैर कानूनी मामला तो नहीं है.

एक अन्य ड्रोन एक लिविंग रूम में चक्कर लगा रहा है. वह देखता है कि एक छोटी सी बच्ची की टी-शर्ट पर एक बिल्ली है. ड्रोन फ़ैसला लेता है, और बच्ची के पिता के फ़ोन पर बिल्ली से संबंधित एक विज्ञापन भेज देता है.

इमेज कॉपीरइट AP

शायद आपको लगे कि इन सभी गतिविधियों का आपस में क्या संबंध है. दरअसल ये भविष्य की एक तस्वीर है क्योंकि ऐसे ड्रोन कई पश्चिमी देशों के शहरों में जीवन का हिस्सा बनने वाले हैं.

यदि डिज़ायन एजेंसी सुपरफ़्लक्स के बनाए गए ड्रोन सरकारों, सुरक्षा एजेंसियों, कारोबारियों के बीच लोकप्रिय हुए तो संभव है कि निकट भविष्य में ही ये कई शहरों में लोगों की रोज़मर्रा ज़िंदगी में शामिल हो जाएँ.

हर हरकत पर नज़र

लंदन के वीएंडए म्यूज़ियम में आयोजित एक प्रदर्शनी में जॉन आरडर्न और अनब जैन के नेतृत्व में सुपरफ़्लक्स की टीम ने कई प्रकार के ड्रोन दिखाए हैं.

इन्होंने दुनिया का दृश्य बनाने की कोशिश की है जिसमें ड्रोन हमारे शहरों में सूचनाओं की अदृश्य दुनिया को किस तरह से देखेंगे.

ड्रोन भवनों तथा वाहनों और लोगों को स्कैन करेंगे, लोगों के चेहरों और उनकी भौगोलिक लोकेशन को देखेंगे और फिर क्लाउड पर कहीं रखे गए निजी सूचनाओं के डाटाबेस पर नज़र दौड़ाएँगे.

इससे सुरक्षा सेवाओं, प्रदूषण नियंत्रण सेवाओं, नागरिक सेवाओं, विभन्न बिज़नेस से जुड़े लोगों को तरह तरह से मदद मिलेगी.

और यह सब मौजूदा तकनीक के प्रयोग से ही किया जा रहा है.

ऐसा होने से शहरों में अब तक पर्दे के पीछे रहने वाली सब गोपनीय बातें अब आम हो जाएँगी.....जैसे कि सूजनाएँ दीवारों पर, गलियों में और लोगों के बीच बिखेर दी गई हों.

तो भविष्य में ऐसी जीवनशैली के लिए ख़ुद को तैयार कर लीजिए. जब आपकी हर हरकत पर ड्रोन की नज़र होगी.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी फ़्यूचर पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार