थाइलैंड के समुद्र में फंसे हज़ारों शरणार्थी

  • 12 मई 2015
रोहिंग्या मुसलमान इमेज कॉपीरइट EPA

इंटरनेशनल ऑर्गेनाइज़ेशन फॉर माइग्रेशन (आईओएम) नामक संस्था का कहना है कि बांग्लादेश और म्यांमार के हज़ारों शरणार्थी थाइलैंड के नज़दीक समुद्र में फंसे हुए हैं.

आईओएम के एशिया प्रशांत के मिशन प्रमुख जेफ़ लेबोविट्ज़ ने बीबीसी को बताया कि पिछले हफ़्ते दक्षिणी थाइलैंड के खाली शिविरों में दर्जनों मानव अवशेष पाए जाने के बाद पुलिस ने कड़ी कार्रवाई की जिसके बाद मानव तस्कर समुद्र में ही अपनी नावें रोके हुए हैं.

इस बीच बीते दो दिन में 2,000 से ज़्यादा शरणार्थी नावों से मलेशिया और इंडोनेशिया पहुंचे हैं.

'समुद्र में ही मौत'

इमेज कॉपीरइट EPA

बांग्लादेशी शरणार्थी और म्यांमार में अत्याचार सह रहे रोहिंग्या मुसलमानों को मानव तस्कर थाइलैंड लाते हैं जहां उन्हें तब तक बंधक बनाकर रखा जाता है जब तक वह मलेशिया या आगे की यात्रा के लिए खर्च होने वाले पैसे का इंतज़ाम नहीं कर लेते.

लेबोविट्स के अनुसार रोहिंग्या की आवाजाही पर नज़र रखने वाले, अराकान प्रोजेक्ट, का अनुमान है कि 8,000 लोग समुद्र में फंसे हुए हैं, इस बात की पुष्टि तो नहीं हो सकी है लेकिन यह सही लगता है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मलेशियाई अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि 1,018 बांग्लादेशी और रोहिंग्या शरणार्थी गैरकानूनी रूप से लांगकावी द्वीप पर उतरे हैं. ज़ाहिर है थाइलैंड ले जा रहे मानव तस्कर उन्हें छोड़ गए हैं.

इंडोनेशियाई अधिकारियों ने एकेह तट पर फंसे 600 शरणार्थियों को रविवार को और सोमवार की सुबह अन्य 400 को बचाया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थियों के लिए काम करने वाली एजेंसी यूएनएचसीआर ने बताया है कि 2015 की पहली तिमाही में 25,000 शरणार्थी म्यांमार और बांग्लादेश से मानव तस्करों की नाव में सवार हुए थे जो संख्या साल 2014 की इसी अवधि की दोगुनी थी.

इसके अनुसार इस साल जनवरी से मार्च के बीच 3,000 लोग समुद्र में ही मारे गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार