हेलिकॉप्टर क्रैश: 'किसी के बचने की आस नहीं'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अमरीकी सेना ने कहा है कि नेपाल में हादसे का शिकार हुए उसके हेलिकॉप्टर पर सवार लोगों में से किसी के बचने की संभावना नहीं है.

भूकंपग्रस्त नेपाल में ये हेलिकॉप्टर इसी हफ़्ते तब लापता हो गया था जब वो चीनी सीमा के नज़दीक राहत सामग्री पहुंचाने के लिए उड़ान पर था.

शुक्रवार सुबह इस हेलिकॉप्टर का मलबा मिल गया है. इस पर छह अमरीकी सैनिक और दो नेपाली सैनिक सवार थे.

अभी तक तीन शव बरामद हुए हैं.

'घने जंगलों में हादसा'

नेपाल में मंगलवार को 7.3 तीव्रता का भूकंप आया जिसमें 110 लोग मारे गए.

इससे पहले नेपाल में 25 अप्रैल को आए 7.8 तीव्रता के भूकंप ने इससे कहीं ज़्यादा तबाही मचाई जिसमें आठ हज़ार से ज़्यादा लोगों की जानें गईं और बहुत से लोग घायल हो गए.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

'नेपाल टाइम्स' अख़बार के संपादक कुंडा दीक्षित ने बताया कि हेलिकॉप्टर का मलबा राजधानी काठमांडू से 56 किलोमीटर दूर मिला.

वहीं नेपाल में काम रही अमरीकी टास्क फोर्स के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल जॉन विस्लर ने कहना है कि इस बात की संभावना नहीं है कि घटनास्थल पर कोई जीवित मिलेगा.

उन्होंने बताया कि हेलिकॉप्टर घने जंगलों में हादसे का शिकार हुआ. ये हेलिकॉप्टर नेपाल में आए दूसरे भूकंप के बाद लापता हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार