'शेक्सपियर का 400 साल पुराना पोर्टेट'

शेक्सपियर का पोर्टेट इमेज कॉपीरइट REX FEATURES

बॉटनी की 400 साल पुरानी एक किताब में मशहूर नाटककार शेक्सपियर का छायाचित्र सामने आया है, जो उनके जीवनकाल में बना इकलौता पोर्ट्रेट हो सकता है.

ये पोर्टेट 16वीं शताब्दी का है, जिसे वनस्पति शास्त्र और इतिहास के जानकार मार्क ग्रिफ्थिस ने तलाशा है.

ग्रिफ्थिस ने ये खोज उस वक्त की जब वो वनस्पति-शास्त्री जॉन गेरार्ड की जीवनी पर शोध कर रहे थे.

गेरार्ड ने 'द हर्बल ओर जेनेरल हिस्ट्री ऑफ प्लॉन्ट्स' नाम की किताब लिखी है.

ये किताब वर्ष 1598 में प्रकाशित हुई और इसमें 1484 पन्ने हैं.

युवा शेक्सपियर का चित्र

इमेज कॉपीरइट Getty

इतिहासकार मार्क ग्रिफ्थिस के मुताबिक,"शेक्सपियर ऐसे ही दिखते थे. ये उनकी ज़िंदगी के प्राइम में तैयार किया गया है."

उनकी खोज के बारे में 'कंट्री लाइफ' के इस सप्ताह के अंक में जानकारी दी गई है.

पत्रिका के संपादक मार्क हेजेस ने इसे 'शताब्दी की साहित्यिक खोज' बताया है.

उन्होंने कहा कि शेक्सपियर का पोर्टेट 'दुनिया के महानतम लेखक के जीवनकाल में बना इकलौता ज्ञात सत्यापन योग्य पोर्टेट है.'

उन्होंने कहा कि उस वक्त नाटककार की उम्र 33 साल की थी.

मार्क हेजेस कहते हैं, "उन्होंने मिडसमर नाइट्स ड्रीम लिखा था और जल्दी ही हैमलेट लिखने वाले थे. वो एक फिल्म स्टार की तरह शानदार नज़र आते हैं."

दावे पर सवाल

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यूनिवर्सिटी ऑफ बर्मिंघम के शेक्सपियर इंस्टीट्यूट के डॉयरेक्टर माइकल डोबसन कहते हैं कि वो इस थ्योरी से सहमत नहीं हैं.

उन्होंने कहा, "मैंने दलीलों को विस्तार से नहीं देखा है लेकिन कंट्री लाइफ ऐसा दावा करने वाला पहला प्रकाशन नहीं है."

शेक्सपियर के पोर्टेट को लेकर ऐसा दावा पहली बार नहीं किया गया है.

वर्ष 2009 में शेक्सपियर बर्थप्लेस ट्रस्ट ने कोब पोर्टेट के तौर पर पहचान रखने वाली पेटिंग प्रदर्शित की थी.

ट्रस्ट ने इसे वर्ष 1610 में बना प्रामाणिक पोर्टेट बताया था लेकिन कुछ आलोचकों ने कहा था कि ये शेक्सपियर की तस्वीर नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार