समर जॉब्स और वेतन 11,000 डॉलर मासिक !

इमेज कॉपीरइट Alamy

गर्मियां शुरू होते ही दुनिया भर के कॉलेज छात्रों के बीच समर जॉब्स हासिल करने की होड़ लग जाती है.

छुट्टियों के समय का इस्तेमाल, आमदनी और काम का अनुभव ये तीनों चीजें समर जॉब्स से हासिल हो जाती हैं.

इतना ही नहीं, आजकल समर जॉब्स के दौरान मिलने वाला स्टाईपेंड भी अचरज में डालने वाला है. खासकर एमबीए के छात्रों को मिलने वाली समर जॉब्स बेहद आकर्षक होती हैं. कई बार फुल टाइम जॉब्स से भी आकर्षक.

हर महीने 7 हज़ार डॉलर का स्टाईपेंड, वो भी समर जॉब्स में. आपको यकीन नहीं हो रहा तो, दुनिया के शीर्ष प्रबंधन संस्थानों के छात्रों को मिलने वाली समर जॉब्स पर एक नजर डालिए.

लाखों का वेतन

व्हार्टन प्रबंधन संस्थान के छात्रों को करीब 8 हज़ार डॉलर मासिक पर समर जॉब्स ऑफ़र हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

हार्वड विश्वविद्यालय के छात्रों को 7,494 डॉलर और स्टैंफर्ड विश्वविद्यालय के छात्रों को 6,800 डॉलर मासिक स्टाईपेंड ऑफ़र हुए हैं. कुछ मैनेजमेंट कंसल्टिंग फर्म तो इंटर्न को भी 11 हज़ार डॉलर मासिक पर रख रही हैं.

इतना ही नहीं कई कंपनियां तो इंटर्न को आने जाने और रहने का खर्च भी मुहैया करा रही हैं, अगर इंटर्न दूसरे देश से आ रहा हो तो भी.

दरअसल फ़ाइनेंशियल सेक्टर एक बार फिर मज़बूती की राह पर है, ऐसे में इस क्षेत्र में आने के लिए छात्रों में क्रेज भी देखा जा रहा है. इसके अलावा प्राइवेट इक्विटी की दुनिया प्रतिस्पर्धी दुनिया है.

लंदन बिज़नेस स्कूल के रिचर्ड ब्लांड कहते हैं, "प्राइवेट इक्विटी के क्षेत्र में आने के लिए ख़ास निपुणता और अनुभव की जरूरत होती है."

चमक दमक की नौकरियां

वे मानते हैं कि छात्रों में प्राइवेट इक्विटी के क्षेत्र में आने की दिलचस्पी बढ़ी है.

इमेज कॉपीरइट Getty

वहीं शिकागो स्थित एमबीए करियर कोच की संस्थापक एंजिला गुएडो कहती हैं कि छात्रों को ये नहीं पता है कि प्राइवेट इक्विटी क्या होती है लेकिन वे जानते हैं कि स्मार्ट और दिलचस्प जॉब्स हैं, कम से कम बाहर से तो ऐसा ही लगता है.

ख़ास बात ये कि छात्रों में दिलचस्पी की वजह आमदनी का भरोसा है. उदाहरण के लिए हारवर्ड बिज़नेस स्कूल के प्राइवेट इक्विटी समर इंटर्न को 2014 में 6,250 डॉलर की बेस सेलरी मिल रही थी.

हालांकि ये इंटर्नशिप इन्वेस्टमेंट बैंकिंग और मैनेजमेंट की तुलना में कम थी. लेकिन प्राइवेट इक्विटी के क्षेत्र में फुल टाइम जॉब करने वालों को किसी दूसरे क्षेत्र की तुलना में ज़्यादा वेतन मिल रहा था- करीब डेढ़ लाख डॉलर सलाना की बेस सेलरी और अन्य भुगतान के तौर पर एक लाख डॉलर.

लौटा फ़ाइनेंस का जादू

इन्वेस्टमेंट बैंकिंग और दूसरी फाइनेंशियल सेवाओं की इंटर्नशिप के लिए एमबीए छात्रों की दिलचस्पी काफी बढ़ी है. हालांकि 2008 में आर्थिक मंदी को झेलने के बाद इस क्षेत्र में अभी भी सीमित अवसर हैं, लेकिन गुएडो बताती हैं कि एमबीए के छात्रों में बैंकिंग सेक्टर तब भी लोकप्रिय बना रहा.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

एमबीए छात्रों की दिलचस्पी टेक्नॉलॉजी के क्षेत्र में भी ख़ूब देखी जा रही है. लंदन बिज़नेस स्कूल को फ़ाइनेंस यूनिवर्सिटी के तौर पर देखा जाता रहा है. 2014 में यहां के छात्रों को सबसे ज्यादा नौकरी देने वाली संस्थाओं में अमेज़न तीसरे नंबर पर था. इसके अलावा गूगल और फ़ेसबुक जैसी तकनीकी फर्म एमबीए के छात्रों को बड़े पैमाने पर नौकरियां दे रहे हैं.

बिज़नेस स्कूल पर फोकस करने वाली साइट बिज़नेस बिकौज़ के समाचार संपादक सेब मर्रे ने बताया, "बिज़नेस स्कूल बैंकों और कंसल्टिंग फर्मों के लिए फैक्ट्री बनते जा रहे हैं. लेकिन अब एमबीए तकनीकी क्षेत्र में भी कदम बढ़ा रहे हैं."

दुनिया के शीर्ष बिज़नेस स्कूल के छात्रों को तकनीक के क्षेत्र में इंटर्नशिप करने पर 2014 में 6800 से 8000 डॉलर प्रति माह मिल रहे थे जबकि पक्की नौकरी होने पर ये सैलरी 1.15 लाख डॉलर से 1.20 लाख डॉलर सालाना थी.

सामाजिक प्रोजेक्ट में दिलचस्पी

गुएडो के मुताबिक अब एमबीए के छात्रों की दिलचस्पी सामाजिक प्रोजेक्ट पर काम करने वाली संस्थाओं के प्रति बढ़ी है.

इसके चलते गैर लाभकारी संस्था या फाउंडेशन में भी इंटर्नशिप करने का चलन बढ़ा है. कई छात्र स्टार्टअप के साथ करियर शुरू कर रहे हैं तो कईयों ने अपने वेंचर शुरू करने में दिलचस्पी दिखाई है.

एमबीए की इंटर्नशिप में भले बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है लेकिन मैनेजमेंट कंसल्टिंग का क्षेत्र वैसा का वैसा ही है. प्रमुख कंसल्टिंग फर्म शीर्ष प्रबंधन संस्थान के छात्रों के सबसे बड़े नियोक्ता बने हुए हैं. मैकिंजी एंड कंपनी, बॉस्टन कंसल्टिंग ग्रुप, बेन एंड कंपनी और एक्सैंचुयर और डिलोइट जैसी फर्म के लिए एमबीए छात्रों में काफी क्रेज़ है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि इन फर्म में इंटर्नशिप में किसी भी इंडस्ट्री से ज़्यादा पैसा मिलता है. शीर्ष प्रबंधन संस्थान के छात्रों को कंसल्टिंग फर्म 11 हज़ार डॉलर मासिक के वेतन पर समर जॉब्स पर रख रहे हैं. पक्की नौकरी मिलने पर 1.35 लाख डॉलर सालाना का वेतन और 50 हज़ार डॉलर का साइनिंग बोनस भी दिया जाता है.

गुएडो बताती हैं कि एमबीए छात्रों में कंसल्टिंग फर्म की लोकप्रियता साल दर साल बनी हुई है क्योंकि यहां काम करने के दौरान उन्हें विस्तृत अनुभव मिलता है और काम करने के बेहतर ऑफर भी.

गुएडो ने बताया, "ज़्यादातर लोग जानते हैं कि वास्तविक लीडर तो उन्हें बनना ही है, लेकिन वे लक्ष्य तक पहुंचने के लिए परंपरागत रास्ता चुनते हैं. ज्यादातर लोगों के लिए यही सही रास्ता होता है."

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें, जो बीबीसी कैपिटल पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार