'इराक़ी सेना में लड़ने का जज़्बा नहीं'

  • 25 मई 2015
एश्टन कार्टर इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी रक्षा मंत्री एश्टन कार्टर ने कहा है कि रमादी शहर में इराक़ी बलों की हार से पता चलता है कि उनमें इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों से निपटने का जज़्बा नहीं है.

सीएनएन को दिए साक्षात्कार में कार्टर ने कहा, ''ऐसा लगता है कि इराकी बलों ने लड़ने की इच्छा ही नहीं दिखाई. उनकी संख्या कम नहीं थी. सच तो ये है कि सामने वाली सेना से उनकी संख्या ज़्यादा थी.''

हालात को बेहद चिंताजनक बताते हुए उन्होंने कहा, ''हम उन्हें प्रशिक्षण और उपकरण दे सकते हैं, लेकिन हम उनमें लड़ने की इच्छा पैदा नहीं कर सकते हैं.''

'अवास्तविक और निराधार'

इमेज कॉपीरइट AP

इराक़ की डिफेंस एंड सिक्योरिटी कमेटी के प्रमुख ने कार्टर के इस बयान को ''अवास्तविक और निराधार'' बताया है.

इराक़ की सरकार ने इस्लामिक स्टेट को आगे बढ़ने से रोकने के लिए इलाके में शिया लड़ाकों को तैनात किया है.

वॉशिंगटन में मौजूद बीबीसी संवाददाता रजनी वैद्यनाथन का कहना है कि कार्टर के इस बयान के ज़रिए अमरीका ने इराक़ी सेना का तीखा मूल्यांकन किया है. इससे इराक़ के उन आलोचकों को बल मिला है जो कहते रहे हैं कि इराक़ में अमरीकी सैनिकों के उतरने के बाद ही इस्लामिक स्टेट को हराया जा सकता है, हालांकि अमरीका इससे इनकार करता रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार