अमरीका में फ़ोन निगरानी कानून पर बहस

एनएसए इमेज कॉपीरइट Getty

अमरीकी संसद में एक आतंकवाद-निरोधक क़ानून को लेकर अहम बहस जारी है, लेकिन अब भी पेट्रियट क़ानून के चंद घंटों के लिए ही सही लेकिन ख़त्म होने के आसार लग रहे हैं.

संसद में 17 के मुकाबले 77 वोटों से वह बिल आगे बहस के लिए बढ़ाया गया है जिससे अमरीकी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी या एनएसए के सभी अमरीकी लोगों का फोन डाटा इकठ्ठा करने वाले कार्यक्रम का अंत हो जाएगा.

इस यूएसए फ़्रीडम नामक क़ानून पर मतदान कुछ दिनों तक नहीं होने की उम्मीद है जिसके कारण पेट्रियट एक्ट के तीन अहम हिस्सों की समय सीमा समाप्त हो जाएगी.

इस क़ानून के तहत सुरक्षा एजेंसियां सभी अमरीकियों के फ़ोन डाटा को इकठ्ठा कर सकती हैं, जिनमें फ़ोन नंबर, किसको कॉल किया और कितनी लंबी बात हुई आदि जानकारी शामिल होती हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

समयसीमा

पेट्रियट क़ानून के तहत इन अहम अंशों वाले क़ानून यूएसए फ़्रीडम क़ानून की समय सीमा अमरीका में रविवार रात समाप्त हो जाएगी.

इसमें संशोधन करने या इसकी मियाद बढ़ाने के लिए संसद में बहस हो रही है. उम्मीद की जा रही है कि बहस का वक्त बढ़ा दिया जाएगा.

यूएसए फ़्रीडम एक्ट नाम के निगरानी क़ानून के सेक्शन 215 के तहत सारे अमरीकियों की फोन कॉलों को इकट्ठा किया जाता है. इसी पर कुछ सेनेटर विरोध जता रहे हैं.

रिपब्लिकन औऱ डेमोक्रेट दोंनो दलों के अधिकतर सेनेटर इस क़ानून के पक्ष में मत देने को राज़ी हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

जमकर आलोचना

सेनेट में रिपबलिकन पार्टी का बहुमत है. लेकिन सेनेट में रिपब्लिकन पार्टी के नेता मिच मकोनल ने हताशा जताते हुए कहा कि कुछ लोग पेट्रियट क़ानून को सिरे से ही ख़त्म करना चाहते हैं.

इस क़ानून का विरोध करने वालों में सबसे मुखर विरोधी हैं केंटकी राज्य से रिपब्लिकन पार्टी के सेनेटर रैंड पॉल.

उन्होंने अपनी ही पार्टी के अधिकतर सेनेटरों का विरोध करते हुए इस निगरानी क़ानून की जमकर आलोचना की.

सेनेट में बोलते हुए सेनेटर रैंड पॉल ने कहा, "राष्ट्रपति बराक ओबामा यह क़ानून गैरक़ानूनी तरीके से चला रहे हैं. सारे अमरीकी लोगों के बारे में सारी जानकारियां इकट्ठी की जा रही हैं."

उन्होंने कहा, "यह हमारी आज़ादी का हनन है. हमने तो आज़ादी के इन्ही अधिकारों के लिए क्रांति भी लाई थी. क्या हम यह आज़ादी ऐसे ही छोड़ दें? मैं तो ऐसा हरगिज़ नहीं होने दूंगा."

इमेज कॉपीरइट Getty

सबकी जासूसी क्यों?

सेनेटर रैंड पॉल ने कहा कि "जिन लोगों पर शक़ हो उनकी जानकारियां वारंट लेकर इकट्ठी की जाएं. उसमें किसी को कोई एतराज़ नहीं है. लेकिन सारे अमरीकियों के फोन, इमेल और अन्य जानकारियां क्यूं इकट्ठा की जा रही हैं?"

इमेज कॉपीरइट na
Image caption एडवर्ड स्नोडेन ने अमरीका के जासूसी कार्यक्रम का ख़ुलासा किया था.

सेनेटर रैंड पॉल 2016 में होने वाले अमरीकी राषट्रपति के चुनाव के लिए रिपब्लिकन पार्टी के प्रत्याशी के उम्मीदवार हैं.

एफ बी आई का कहना है कि पेट्रियट क़ानून के इन अहम अंशों के ज़रिए जानकारी इकट्ठा करके चरंपंथी हमले रोकने में मदद मिलती है.

अमरीकी खुफिया एजेंसी सीआईए मुखिया जॉन ब्रेनन ने कहा कि सेनेट में इस बहस और वोट पर दुनिया भर के आतंकी भी नज़रें गड़ाए हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

लोन वुल्फ़

सेनेटर मिच मकोनल ने पेट्रियट क़ानून के दो अहम लेकिन कम विवादित अंशों को मंज़ूरी के लिए शामिल कर लिया है जिनमें एक लोन वुल्फ़ या अकेले आतंकी से संबंधित क़ानून है जिसमें सरकार को ऐसे संभावित आतंकियों की निगरानी की इजाज़त होती है जो किसी आतंकी गुट से तो न जुड़ा हो लेकिन सुरक्षा के लिए घातक हो.

दूसरा क़ानून है रोविंग वायरटैप्स, जिसके तहत आतंकियों के फोन की निगरानी करने के लिए, आतंकी द्वारा फोन बदलने की सूरत में बार बार वॉरंट लेने की ज़रूरत नहीं पड़ती है.

अब यूएसए फ़्रीडम एक्ट पर 30 घंटे तक बहस होने के आसार हैं औऱ उसके बाद उस क़ानून पर मतदान किया जाएगा, जो उम्मीद है आसानी से मंज़ूर हो जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार