गोद दे देंगे सिगरेट पीने वाले का बेटा

सिगरेट का धुआँ इमेज कॉपीरइट Thinkstock

इंग्लैंड की एक अदालत ने दो साल के एक बच्चे को गोद देने का फ़ैसला दिया है क्योंकि बच्चा जिस घर में रहता था वो सिगरेट के धुएँ से भरा रहता था.

बच्चे के घर की जाँच के बाद स्वास्थ्यकर्मी जूली एलेन ने हल शहर की अदालत को बताया कि जब वो उस घर में गईं तो उन्हें साँस लेने में तकलीफ़ हो रही थी.

जाँचकर्ता ने घर को गंदा और स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह बताया.

जूली एलेन ने अदालत से कहा कि उन्होंने कभी ऐसा 'धुएँ भरा घर' नहीं देखा था.

नर्सरी नर्स एम्मा ग्रीन ने अदालत से कहा कि ये घर कूड़े से भरा हुआ था और फर्श पर सिगरेट के टुकड़े फैले हुए थे.

जज लुई पेंबर्टन ने अपने फ़ैसले में कहा कि बच्चे को गोद दे देना चाहिए.

कड़ा फ़ैसला

इमेज कॉपीरइट PA

जज ने अपने फ़ैसले में कहा, "एलेन जब घर में घुसीं तो उन्होंने बच्चे और उसके पिता को धुएँ के गुब्बार में घिरे हुए देखा."

बच्चा सोफ़े पर सोया हुआ था. कुछ समय से उसकी तबीयत भी ख़राब थी. उसके कपड़ों और खिलौनों से भी 'धुएं की गंध' आ रही थी.

अदालत को बताया गया कि बच्चे के पिता को मानसिक समस्या है और वो कोकीन का नशा भी करते हैं.

जज ने फ़ैसले में कहा, "मुझे डर है कि इन स्थितियों की वजह से मुझे एक कड़ा फ़ैसला लेना पड़ रहा है कि इस छोटे से बच्चे को उसके अभिभावकों के पास छोड़ना उसे ख़तरे में डालना है."

जज ने आगे कहा, "ऐसे में बच्चे को गोद दे देना ही एकमात्र रास्ता बचता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार